बर्बरता: मास्‍क ना पहनने पर बरेली में युवक के कीलें ठोंक दीं तो रायबरेली में पांच को रात भर हवालात में बंद कर पीटा

मऊ जिले में भी घर के बाहर टहल रहे युवक को पीटने का आरोप

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। लाकडाउन का पालन कराने में यूपी पुलिस का अमानवीय चेहरा फिर सामने आया है। इससे पूर्व भी कई जिलों में पुलिस की आमनवीयता की हरकतें होती रही हैं। इस बार यूपी के तीन जिलों में पुलिस ने हदें पार की हैं। बरेली जिले के थाना बारादरी के जोगी नवादा इलाके में केवल मास्‍क ना पहनने पर ही पुलिस ने युवक के हाथ और पैरों में कीलें ठोंक दीं। वहीं रायबरेली में पुलिस ने पांच युवकों को रात भर थाने की हवालात में बंद कर पीटा। इसके अलावा मऊ जिले में घर के बाहर टहल रहे युवक को पीटते हुए थाने ले जाने का भी पुलिस पर आरोप लगा है।

Devi Maa Dental

बरेली के बारादरी थाना क्षेत्र में रहने वाले रंजीत के हाथ और पैर में कील ठुके हुए मिले। बुधवार को वह थाने में पहुंचा। परिजनों का कहना है कि युवक रात में करीब 10 बजे घर के बाहर बैठा था। इसी दौरान पुलिस गश्त पर आई और युवक पर बिफर गई। पुलिस युवक को थाने ले गई और उसके हाथ-पैर में कीलें ठोक दीं। उसे बुरी तरह से मारा भी गया। मामले में युवक की मां शीला देवी ने थाने में शिकायती की है। हालांकि, SSP रोहित सजवाण ने आरोपों को खारिज कर दिया। उन्होंने कहा कि युवक ने 24 मई को पुलिस के साथ अभद्रता की थी। बिना मास्क लगाए बाहर घूम रहा था। जिसके खिलाफ FIR दर्ज हुई थी। गिरफ्तारी से बचने के लिए वह ऐसी साजिश रच रहा है।

दूसरा केस यूपी के मऊ जिले का है। यहां थाना मोहम्मदाबाद में एक युवक को पुलिसकर्मियों को पीटने का मामला सामने आया है। आरोप है कि युवक अपने घर के बाहर खड़ा था और उसी समय वहां पहुंचे दो पुलिसकर्मी उसे घसीटते हुए अपने साथ ले गए और उसके साथ मारपीट की। इसका वीडियो भी सामने आया है। पुलिस ने फिलहाल इसकी जांच करने की बात कही है।

Bansal Saree

तीसरा मामला रायबरेली का है। यहां आरोप है कि पुलिस ने तिलक चढ़ाकर लौट रहे 5 युवकों को रातभर सूची चौकी में बंद करके बेरहमी से पीटा। रायबरेली के सिरसिरा गांव के रहने वाले लवकुश, शिवाकांत, राहुल, विनय कुमार और विपिन तिवारी ने SI मृत्युंजय कुमार पर पीटने का आरोप लगाया है।

युवकों का कहना है कि दोस्त की बहन का तिलक चढ़ाकर वह सभी लौट रहे थे। तभी सादे कपड़ों में बगहा चंगल के पास खड़े चौकी इंचार्ज मृत्युंजय कुमार ने उनकी कार रोकने का इशारा किया। जब वो नहीं रुके तो आगे जाकर उन्हें 112 पुलिस की मदद से घेरकर पकड़ लिया गया। इसके बाद सभी की रातभर पिटाई की गई। पुलिस का कहना है कि ये सभी शराब के नशे में पुलिस के साथ अभद्रता कर रहे थे। पुलिस को गाली देकर भाग रहे थे। इन सभी के खिलाफ धारा-151 के तहत कार्रवाई की जा रही है।