यूपी: लाकडाउन से उकताये व्‍यापारियों ने लखनऊ में जबरन खोल दिया बाजार, थाली बजाकर जताया विरोध

व्‍यापारियों ने कहा- हमारे सामने करो या मरो के हालात, सरकार को होश नहीं

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। यूपी की राजधानी लखनऊ में लाकडाउन से भड़के व्‍यापारियों ने थाली बजाकर विरोध जताते हुए जबरन बाजार खोल दिया। अभी तक व्‍यापार मंडलो की सहमति से बाजार बंद सफल रूप से चल रहा था लेकिन यूपी के बाकी हिस्‍सों में लाकडाउन खोलने के बाद भी लखनऊ के बाजार बंदी के आदेश बरकरार रहने पर व्‍यापारियों का गुस्‍सा फूट पड़ा। सोमवार को व्‍यापार मंडल में दो फाड़ हो गए। व्‍यापारियों ने आज सोमवार को जबरन बाजार खोल दिया और थाली बजाकर सरकार का विरोध किया। व्‍यापारियों ने कहा कि उनके सामने करो या मरो के हालात हैं और सरकार व्‍यापारियों पर ध्‍यान नहीं दे रही है। कहा कि जब यूपी के बाकी हिस्‍सों में लाकडाउन खोल दिया गया है तो अब राजधानी में ही क्‍यों लाकडाउन की पाबंदियां जारी हैं।

Devi Maa Dental

दुकानदारों ने कहा कि बीते 15 को दुकानें बंद रखने का फरमान जारी किया गया था। अब आर्थिक तंगी से उनका परिवार बर्बाद हो रहा है। रोजी-रोटी का संकट आ गया है। ऐसे में उनके लिए करो या मरो की स्थिति आ गई है। ई ब्लॉक बाजार में करीब दो सौ से ज्यादा छोटी-बड़ी दुकानें है। जहां राजाजीपुरम की करीब दो लाख की आबादी खरीदारी करने के लिए आती है।

कारोबारियों ने इस दौरान थाली बजाकर विरोध दर्ज कराया। दलील थी कि वह कब तक इस तरह के आदेश के तले अपना नुकसान करेंगे। स्थिति यह है कि कर्मचारियों का वेतन देना का पैसा नहीं बचा है। सहालग खत्म होने को है। सबसे अच्छा कारोबार उसी दौरान होता है। विरोध का नेतृत्व यहां के व्यापार मंडल के नेता रिषभ गुप्ता ने किया।

Bansal Saree

लखनऊ के कारोबारियों ने पहले ही सोशल मीडिया पर यह विरोध दर्ज कराया था कि अगर 7 जून को बाजार नहीं खुलती तो वह लोग खुद अपनी दुकान खोल देंगे। ऐसे में आदेश नहीं आया तो दुकानें खोल दी गई। इसके अलावा चिनहट बाजार में भी काफी दुकानें खुल गई है। हालांकि वहां कोई विरोध नहीं किया गया है। कारोबारियों ने यहां रविवार को भी दुकान खोला था। लखनऊ व्यापार मंडल के महामंत्री पवन मनोचा ने बताया कि सरकार फैसला लेने में देरी कर रही है। ऐसे में कारोबारियों के पास इसके अलावा कोई चारा नहीं बचा है।

लखनऊ व्यापार मंडल ने दुकानें खोलने का फैसला सरकार पर छोड़ दिया था। कहा था कि सरकार जब लखनऊ को अनलॉक करेगा, तब दुकानें खुलेंगी। बताया जा रहा है कि इसके बाद बाजार खोलने को लेकर दो फाड़ हो गया था। एक धड़े ने विरोध किया और बाजार को खोल दिया।