यूपी बोर्ड हाईस्‍कूल इंटर के 57 लाख छात्रों का भविष्‍य अधर में लटका, बोर्ड परीक्षाएं टलने के पूरे आसार

बोर्ड परीक्षाओं से जुड़े 19 में से 17 अफसर कोरोना पाजिटिव

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। आगामी आठ मई से होने वाली यूपी बोर्ड की हाईस्‍कूल और इंटरमीडिएट परीक्षाओं के आयोजन में संशय बन गया है। कल बुधवार को ही सरकार ने सीबीएसई बोर्ड की दसवी की परीक्षाओं को रद्द कर दिया है। अब यूपी बोर्ड की परीक्षाओं को लेकर भी संकट गहराता जा रहा है। इससे पहले सरकार ने 24 अप्रैल से बोर्ड परीक्षाएं कराने के निर्देष दिए थे लेकिन कोरोना के बढ़ते संक्रमण के कारण बोर्ड परीक्षाओं की तिथि में बदलाव करके इसे आठ मई घोषित कर दिया गया था। अब आठ मई पर भी संशय बना हुआ है कि इस तारीख से बोर्ड परीक्षाएं शुरू होंगी या नहीं।

Devi Maa Dental

दरअसल बोर्ड परीक्षाओं से जुडे माध्‍यमिक शिक्षा परिषद के 19 अफसरों में से 17 अफसर इस वक्‍त बीमार हैं। ये सभी अफसर कोरोना की चपेट में हैं जिम्‍मेदारों का कहना है कि इन अफसरों के ठीक होने के बाद ही कोई फैसला लिया जा सकेगा। प्रदेश के माध्‍यमिक एवं उच्‍च शिक्षामंत्री डिप्‍टी सीएम दिनेश शर्मा ने इस बात की पुष्टि करते हुए बताया कि यूपी बोर्ड की परीक्षाएं 24 अप्रैल से होनी थीं। कोरोना संक्रमण को देखते हुए तारीख को आगे बढ़ा कर आठ मई किया गया था।

डिप्‍टी सीएम ने कहा कि हम प्रतिदिन के हालातों की समीक्षा में जुटे हैं। परीक्षण के बाद मुख्‍यमंत्री के साथ वार्ता होनी थी अब वे भी कोरोना संक्रमित हो गए हैं। इसलिए इस प्रक्रिया में देरी हो सकती है। उन्‍होंने कहा शिक्षा व्‍यवस्‍था से जुड़े 19 अफसरों में से 17 अफसर कोरोना संक्रमित हैं। इसलिए आठ मई से शुरू होने वाली बोर्ड परीक्षाओं को लेकर संशय बना हुआ है।

Bansal Saree

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद का प्रयागराज बोर्ड दुनिया का सबसे बड़ा शैक्षणिक बोर्ड है जिसमें हाई स्कूल और इंटरमीडिएट के लगभग 57 लाख परीक्षार्थी प्रतिवर्ष परीक्षा देते हैं।

शर्मा ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक के साथ बैठक करके पूरे देश के परिप्रेक्ष्य में विद्यार्थियों और शिक्षकों के हितों को देखते हुए व्यापक विचार-विमर्श के बाद निर्णय लिया है कि हाईस्कूल की परीक्षा रद्द होगी और इंटरमीडिएट की परीक्षाएं फिलहाल स्थगित की गई हैं। अब एक जून को फैसला होगा कि उसके बारे में क्या नीति अपनाई जाए और 15 दिन पहले इंटरमीडिएट के छात्रों को परीक्षा के बारे में सूचना दी जाएगी। स्थितियां सामान्य होने पर यह सारी गतिविधियां होंगी ऐसा निर्णय लिया गया है।