यूपी: सवा लाख स्‍मार्टफोन खरीदने के टेंडर से लावा कंपनी के बाहर होने पर भिड़े राज्‍यमंत्री स्‍वाति सिंह और प्रमुख सचिव

राज्‍यमंत्री ने टेंडर निरस्‍त करने को कहा लेकिन प्रमुख सचिव ने इनकार कर दिया

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। सवा लाख स्‍मार्टफोन खरीदने की टेंडर प्रक्रिया को लेकर राज्‍य मंत्री स्‍वाति सिंह और प्रमुख सचिव वी हेकाली झिमोमी बीच टकराव हो गया। दोनों के बीच का टेंडर विवाद अब पीएमओ तक पहुंच गया है। दरअसल राज्‍य में पोषण मिशन के तहत सवा लाख स्‍मार्टफोन खरीदे जाने हैं जिसके लिए टेंडर जारी किया गया था ये फोन आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को दिए जाने हैं। इस टेंडर प्रक्रिया से लावा कंपनी के बाहर होने के बाद विवाद शुरू हो गया।  जिसके बाद कंपनी ने टेंडर प्रक्रिया पर सवाल उठाते हुए राज्‍यमंत्री स्‍वाति सिंह से मामले की शिकायत की थी।

Devi Maa Dental

इस शिकायत के बाद राज्‍यमंत्री स्‍वाति सिंह ने इस टेंडर प्रक्रिया को निरस्‍त करने के लिए प्रमुख सचिव को कहा लेकिन उन्‍होंने टेंडर निरस्‍त करने से इनकार कर दिया। प्रमुख सचिव ने राजयमंत्री से दो टूक कह दिया कि टेंडर प्रक्रिया में कहीं कोई गड़बड़ी नहीं है इसलिए इसे निरस्‍त नहीं किया जाएगा। जिसके बाद राज्‍यमंत्री भड़क गयीं और प्रमुख सचिव से उनका विवाद शुरू हो गया।

प्रमुख सचिव की ओर से टेंडर निरस्त न करने पर मंत्री ने इसकी शिकायत मुख्यमंत्री कार्यालय (CMO) और प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) से कर दी। CMO ने मामले में निदेशक राज्य पोषण मिशन कपिल सिंह से रिपोर्ट मांगी थी। निदेशक ने भी शासन को रिपोर्ट भेज दी है कि टेंडर प्रक्रिया में कोई अनियमितता नहीं बरती गई है। मंत्री द्वारा उठाए गए बिंदु निराधार हैं।

Bansal Saree

टेक्निकल बिड के बाद अब फाइनेंशियल बिड भी खोल दी गई है। हालांकि मंत्री के दबाव में अभी तक किसी कंपनी को टेंडर आमंत्रित नहीं किया जा सका है। प्रमुख सचिव वी. हेकाली झिमोमी का कहना है कोई भी प्रक्रिया नियम विरुद्ध नहीं हैं।