यूपी: फर्जी एंबुलेंस मामले में 14 जून को बाराबंकी कोर्ट ने बाहुबली मुख्‍तार को किया तलब

आज सुनवाई के दौरान मुख्‍तार को जारी किया गया है वारंट

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। फर्जी एंबुलेंस मामले में बाहुबली मुख्‍तार अंसारी को बाराबंकी कोर्ट ने वारंट जारी किया है। मुख्‍तार अंसारी को 14 जून को कोर्ट में पेश होना होगा। मुख्‍तार के फर्जी एंबुलेंस वाले मामले में बाराबंकी कोर्ट में आज शुक्रवार को सुनवाई के दौरान जज नंदकुमार ने वारंट जारी करते हुए मुख्‍तार को तलब किया है। पुलिस ने कोर्ट में बताया कि एंबुलेंस मामले में फर्जी पते से रजिस्ट्रेशन में मुख्तार की भूमिका पाई गई है।

Devi Maa Dental

मुख्तार अंसारी ने बाराबंकी पुलिस को दिए अपने बयान में यह माना था कि उसने सोच समझकर साजिश के तहत एंबुलेंस खरीदी और रजिस्ट्रेशन बाराबंकी से कराया था। कोर्ट से आदेश मिलने के बाद बाराबंकी एसपी यमुना प्रसाद ने एसआईटी का गठन किया। इसने 25 मई को बांदा जेल पहुंचकर मुख्तार से पूछताछ की थी।

दरअसल, जब मुख्तार अंसारी पंजाब की रोपड़ जेल में बंद था, तब उसे मोहाली कोर्ट में पेश किया गया था। इस दौरान मुख्तार जिस एंबुलेंस से कोर्ट पहुंचा था। वह यूपी के बाराबंकी की थी। उस पर जिले की नंबर प्लेट लगी हुई थी।

Bansal Saree

पुलिस जांच में पाया गया कि इस एंबुलेंस का फर्जी दस्तावेजों के आधार पर रजिस्ट्रेशन कराया गया। इसके बाद बाराबंकी की नगर कोतवाली में मुख्तार अंसारी को इस मामले में मुख्य साजिशकर्ता बनाकर केस दर्ज कराया गया था।

अब तक तीन गिरफ्तार
एंबुलेंस प्रकरण में पुलिस ने अब तक तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। जिसमें मऊ के संजीवनी हास्पिटल की संचालिका डॉ. अलका राय, मुख्तार के गुर्गे राजनाथ यादव और हॉस्पिटल निदेशक शेषनाथ राय शामिल हैं। तीनों को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है। पुलिस ने तफ्तीश में मुख्तार अंसारी को साजिश का आरोपी बनाते हुए कई और लोगों के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज करवाया है।