आज लखीमपुर हिंसा में मृत किसानों की अंतिम अरदास को लेकर जिले भर में गहमागहमी का माहौल, 50 हजार की भीड़ आने की उम्‍मीद

लखीमपुर आ रहीं प्रियंका गांधी को सीतापुर में रोका, जयंत चौधरी बरेली में नजरबंद, तिकुनियां के ऐतिहासिक गुरूद्वारे में होगी अंतिम अरदास

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। आज मंगलवार को लखीमपुर के तिकुनियां में मृत किसानों की अंतिम अरदास के कार्यक्रम को लेकर जिले भर में गहमागहमी का माहौल है। गौरतलब है कि संयुक्‍त किसान मोर्चा ने लखीमपुर हिंसा में मारे गए किसानों की अंतिम अरदास को लेकर देश भर के किसानों से आज तिकुनियां पहुंचने की अपील की थी। हिंसा के मुख्‍य घटनास्‍थल से करीब एक किलोमीटर की दूरी पर ही 30 एकड़ भूमि पर अंतिम अरदास में आने वालों के लिए विशाल पंडाल के साथ साथ तमाम इंतजामात किए गए हैं। बताया जा रहा है कि इस कार्यक्रम में देश के पांच राज्‍यों पंजाब, हरियाणा, दिल्‍ली, राजस्‍थान और छत्‍तीसगढ़ से करीब 50 हजार किसानों के आने की उम्‍मीद है।

Bansal Saree

अरदास में शामिल होने के लिए कई सियासी नेता भी तिकुनियां की ओर रूख कर रहे हैं। कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी भी लखीमपुर के लिए निकल चुकी हैं। बताया जा रहा है कि प्रियंका गांधी को पुलिस फोर्स ने सीतापुर में ही रोक लिया है। वहीं किसान नेता चौधरी अजित सिंह के पुत्र रालोद प्रमुख जयंत चौधरी भी तिकुनियां आ रहे हैं जयंत चौधरी को बरेली में एक घंटे तक नजरबंद रखा गया है। हालांकि संयुक्त मोर्चा ने ऐलान किया है कि अरदास कार्यक्रम के मंच पर कोई सियासी नेता नहीं बैठेगा। जो भी नेता इस कार्यक्रम में आएगा वह पब्लिक के साथ बैठेगा।

भारतीय किसान यूनियन (टिकैत) के प्रवक्ता राकेश टिकैत सोमवार की रात में ही कार्यक्रम स्थल पर पहुंच चुके हैं। श्रद्धांजलि सभा में किसान जुटने लगे हैं। यहां कौड़ियाला घाट गुरुद्वारा में रविवार से ही अखंड पाठ चल रहा है। कार्यक्रम की सुरक्षा व्यवस्था को परखने के लिए विशेष पुलिस जांच कमेटी के DIG उपेंद्र अग्रवाल, DM अरविंद चौरसिया और SP विजय ढुल ने कार्यक्रम स्थल का निरीक्षण किया।

Devi Maa