संतों ने पीएम मोदी से पूछा- छोटे मठ मन्दिरों के पुजारियों महंतों की आजीविका के बारे में सरकार ने क्‍या सोचा

अखिल भारतीय संत समिति ने सरकार से उठाया सवाल
 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। अखिल भारतीय संत समिति ने देश के प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी से कहा है कि देश के छोटे मठ मन्दिरों के पुजारियों की आजीविका के बारे में सरकार ने क्‍या सोचा है। समिति के वरिष्‍ठ पदाधिकारी ने शनिवार को यह सवाल उठाते हुए कहा कि चर्च के पादरियों और मस्जिदों के इमामों को तनख्‍वाह मिल रही है लेकिन छोटे मठ मन्दिरों के पुजारी अपना दर्द किससे कहें। क्‍या सरकार ने उनके लिए कुछ सोचा है।

Devi Maa Dental

अखिल भारतीय संत समिति के महामंत्री स्वामी जितेन्द्रानंद सरस्वती ने शनिवार को वाराणसी में कहा कि कोरोना वायरस की दूसरी लहर में देश भर के मठ और छोटे मंदिर बंद हैं। बड़े मंदिरों पर सरकारों का कब्जा है। ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यह बताएं कि इन छोटे मठ-मंदिरों के पुजारी और सेवादार अपना और अपने परिजनों का पेट कैसे भरें। जब मंदिर में श्रद्धालु आएंगे नहीं और चढ़ावा चढ़ेगा ही नहीं तो पुजारी और सेवादार क्या करें.? इनके बारे में भला कौन सोचेगा.?

स्वामी जितेन्द्रानंद सरस्वती ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 80 करोड़ लोगों के परिवारों की चिंता की, लेकिन इन पुजारियों और सेवादारों के बारे में किसी ने नहीं सोचा। अल्पसंख्यक वोटों की राजनीति के लिए चर्च के पादरियों और मस्जिदों के मौलानाओं के वेतन की चिंता सभी करते हैं। इनके वेतन की चिंता करने वालों ने क्या यह पता लगाने का कष्ट किया कि पुजारियों और सेवादारों के घरों के खर्च कैसे चल रहे हैं? कोई पुजारी या सेवादार लखपति या करोड़पति नहीं है, जो घर बैठकर अपने परिवार का खर्च उठा सकता है।

Bansal Saree

हमारी मांग पर ध्यान दें
स्वामी जितेन्द्रानंद सरस्वती ने कहा कि सरकार सनातन धर्म के सब्र की परीक्षा न लें। देश की सरकार और जिम्मेदार पदों पर बैठे लोगों से अखिल भारतीय संत समिति मांग करती है कि या तो वह धन से भरे मंदिरों से अपना कब्जा छोड़ दें और उन्हें हमें पुनः सौंप दें। ताकि हम छोटे मंदिरों के पुजारियों और सेवादारों का खर्च उठा सकें। या फिर छोटे-बड़े सभी मंदिरों के पुजारियों और सेवादारों के बारे में भी सोचकर उनके लिए भी कुछ सार्थक करें।