अमानवीयता की हद: गंगा से लाशें निकालकर टायर और पैट्रोल से करा दिया अंतिम संस्‍कार, पांच पुलिसकर्मी सस्‍पेंड  

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। गंगा किनारे शवों को दफनाने और नदियों में शवों को बहाने से रोकने के आदेश के बाद यूपी के बलिया जिले में मंगलवार को पुलिस ने एक शव को दफनाने से रोक दिया और गंगा में बहाने से भी मना कर दिया। संवदनहीनता तो तब हो गयी जब शव का दाह संस्‍कार करने के लिए टायर आदि रखकर शव का अंतिम संस्‍कार करा दिया। पुलिस की मौजूदगी में टायर रखकर शव को जलाए जाने की घटना की खबर तेजी से वायरल हो गयी। जिसके बाद वहां मौजूद पुलिसकर्मियों को सस्‍पेंड कर दिया गया है। घटना बलिया जिले के माल्देपुर घाट की है। इस खबर से आस पास में सनसनी फैल गई संवेदनहीनता के आरोप में पांच पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया है। यहां गंगा में बहती लाशों को निकाल कर चिता पर लकड़ी के साथ-साथ टायर भी रख दिए गए। मामला सामने आने के बाद पांच सिपाहियों पर कार्रवाई की गयी है।

Devi Maa Dental

एसपी विपिन टाडा ने बताया कि सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ है। इस मामले का पता चलते ही वहां मौजूद मांच पुलिसकर्मियों को संवेदनहीनता के आरोप में निलंबित कर दिया गया है। इससे पहले बनारस, गाजीपुर और बलिया के अलावा बिहार के कुछ जिलों में भी गंगा नदी में लाशें मिली थीं। प्रशासन ने इन्हें निकलवाकर अंतिम संस्कार का फैसला लिया। कई जगह तो लाशों को गंगा के किनारे ही दफना दिया गया लेकिन बलिया से शर्मनाक वीडियो सामने आया।

यहां गंगा नदी से लाशों को निकालने के बाद सही तरीके से उनका अंतिम संस्कार नही किया जा रहा है। सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में साफ दिख रहा है कि चिता पर लकड़ी के साथ टायर रखे गए हैं। शव को जल्दी से जलाने के लिए बीच-बीच में उसपर पेट्रोल भी छिड़का जा रहा है। यह सब सिपाहियों की मौजूदगी में होता है।

Bansal Saree