कोरोना काल में इन डिजिटल प्‍लेटफार्म का प्रयोग कर छात्र जारी रख सकते हैं अपनी एजूकेशन

ऐसे कई एप और और पोर्टल मौजूद जिन पर कक्षा एक से लेकर परास्‍नातक तक के कोर्स मौजूद

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। छात्रों की ऑनलाइन पढ़ाई के लिए पहले से ही डिजिटल प्लेटफार्म मौजूद हैं। ई-ज्ञान कोष, डिजिटल लाइब्रेरी, दीक्षा एप समेत कई सरकारी पोर्टल भी हैं, जिन पर कक्षा एक से लेकर परास्नातक तक के पाठ्यक्रम मौजूद हैं लेकिन जानकारी न होने से छात्र इनका इस्तेमाल ही नहीं करते हैं। कोरोना काल में एक बार फिर से इन डिजिटल प्लेटफार्म की याद आ रही है। छात्रों को डिजिटल प्लेटफार्म पर जाकर पढ़ाई के निर्देश दिए जा रहे हैं। बड़े-बड़े कोचिंग संचालक भी ऑनलाइन पढ़ाई के लिए छात्रों को लुभाने के लिए विज्ञापन दे रहे हैं।

Devi Maa Dental

ऑनलाइन भी छात्रों से संपर्क किया जा रहा है। कोरोना काल में शिक्षा व्यवस्था बेपटरी हो गई है। पिछले वर्ष मार्च माह में कोरोना ने पांव पसारे तो स्कूल-कॉलेज को बंद कर दिया गया। काफी दिनों के इंतजार के बाद ऑनलाइन पढ़ाई के निर्देश दे दिए गए। छात्रों को भी बिना परीक्षा के अगली कक्षा में प्रमोट कर दिया गया। जब हालात सुधरे तो एक बार फिर से इस वर्ष भौतिक कक्षाएं संचालित हुईं, लेकिन कुछ महीनों की पढ़ाई के बाद फिर से वही हालात हो गए।

छात्रों के प्रोन्नत को लेकर कुलपति ने शासन को भेजी रिपोर्ट

Bansal Saree

शासन ने एक बार फिर से सभी स्कूल-कॉलेज में भौतिक कक्षाओं पर रोक लगा दी और ऑनलाइन पढ़ाई जारी रखने के निर्देश दिए लेकिन हालात ज्यादा ही खराब हुए और शिक्षकों, अधिकारियों व कर्मचारियों की कोरोना से जान जाने के बाद ऑनलाइन कक्षाओं पर भी रोक लगा दी गई। अब 20 मई से फिर से ऑनलाइन कक्षाएं संचालित हो गई हैं। ऐसे में एक बार फिर से छात्रों को डिजिटल प्लेटफार्म से जोड़ने के लिए कहा जा रहा है।