तो क्‍या मार्च के शुरूआत से ही कोरोना ने शुरू कर दिया था तबाही का खेल ?

तब नहीं माना, बाद में लाकडाउन का लिया गया सहारा

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। यूपी में कोरोना का कहर अब भी जारी है उधर राज्‍य सरकार यह आंकलन करने में जुटी है कि कोरोना की दूसरी लहर से कितनी तबाही हुयी है। विशेषज्ञों के अनुसार मार्च के शुरू में ही कोरोना वेव शुरू हो चुकी थी। लेकिन तब गांवों में बुखार के केसों को वायरल और टायफाइड का रूप देकर मामला शांत रखा। इस दौरान गांव गांव सर्दी जुकाम के मरीज मिले थे। तब सरकार ने संक्रमण की सुध नहीं ली होली और पंचायत चुनावों के बाद बिगड़े हालात संभलना मुश्किल हुए तो लाकडाउन का सहारा लिया गया।

Devi Maa Dental

उधर इतने बड़े पैमाने पर नदियों किनारे लाशें मिलने के बाद कई जिलों में ग्रामीणों का कहना है कि यूपी के देहात में कोरोना का कहर अप्रैल नहीं बल्कि मार्च से ही चल रहा था। गांव-गांव से रोजाना सर्दी-जुकाम के मरीजों के शव निकल रहे थे, लेकिन सरकार के कानों पर जूं नहीं रेंग रही थी। तब जिला प्रशासन इसे वायरल और टायफाइड के केस बता रहे थे।

एक्‍सपर्ट ने कहा कि योगी आदित्यनाथ की सरकार को अब यह तय करना जरूरी है कि करोना की दूसरी लहर यूपी में कब शुरू हुई। कहीं ऐसा तो नहीं कि लाखों लोग करोना की चपेट में मार्च में ही आ गए थे? इनमें से सैकड़ों लोग बिना किसी इलाज के मारे गए। वहीं, बहुत सारे बिना सरकारी मदद के ठीक भी हो गए? यूपी के कई स्थानीय पत्रकार मानते हैं कि मार्च में यूपी के गांवों में लाखों लोग जुकाम-बुखार के शिकार थे, लेकिन तब दिल्ली से लेकर लखनऊ तक सरकार ने संज्ञान नहीं लिया और इसे वायरल के सीजन का असर बताया जाता रहा।

Bansal Saree

बाद में गंगा में बहती लाशें दिखने के बाद यह मामला गरमाया, लेकिन शासन-प्रशासन फिलहाल लीपापोती करने की कोशिश कर रहे हैं। मार्च की शुरुआत में लग रहा था कि राज्य से कोरोना धीरे-धीरे विदा हो रहा है, लेकिन मार्च के दूसरे-तीसरे हफ्ते से लोगों में खांसी-जुकाम का प्रकोप बढ़ने लगा। आम तौर पर माना जाता है कि मार्च के दूसरे सप्ताह के बाद हर साल वायरल का हमला होता है। इसलिए यह मान लिया गया कि वायरल बुखार है जो प्रत्येक वर्ष की तरह ही इस साल भी फैल रहा है।

लखनऊ से लगभग 32 किलोमीटर दूर अमानीगंज महोना के अमित मिश्रा बुखार से जूझ रहे थे। जब कई दिनों तक उनका बुखार नहीं उतरा और 4 अप्रैल को जांच कराई गई तो उन्हें कोरोना निकला। 6 अप्रैल को उनकी मौत हो गई। परिवार वालों के मुताबिक अमित मिश्रा से होली के पहले उनके भट्टे के मजदूर होली लेने आए थे, इसी के बाद उनकी तबीयत बिगड़ी।

राजधानी लखनऊ से लगभग 22 किलोमीटर दूर पहाड़पुर गांव में अशोक कुमार मार्च के तीसरे सप्ताह से ही बुखार और खांसी से परेशान थे। लक्षण कोरोना जैसे थे, लेकिन कोई यह मानने को तैयार नहीं था कि गांव में कोरोना घुस गया है।

लेकिन एक दिन बाद ही घर के ही बगल में रहने वाली सुमन पांडे की भी अचानक मौत हो गई तो जांच हुई और उनकी मृत्यु का कारण कोरोना निकला। इन परिवारों के इर्द-गिर्द रहने वाले दो अन्य लोगों की भी मौत हो गई।

होली और पंचायत चुनाव से बिगड़े हालात

वास्तव में यह वह दिन थे, जब उत्तर प्रदेश के अधिकांश गांव खांसी-बुखार-जुकाम से पीड़ित थे और गांव में उसे वायरल बुखार और टायफाइड बताया जा रहा था। कोई यह मानने को तैयार नहीं था कि गांव के गांव वास्तव में कोरोना से पीड़ित हैं। राजधानी लखनऊ से ही सटे हर गांव में सैकड़ों लोग बीमार पड़े थे। वास्तव में मार्च के तीसरे सप्ताह में ही कोरोना ने गांव में पैर फैलाना शुरू कर दिया था। होली में लगे जमघट ने कोरोना को बढ़ाया और बाद में पंचायत चुनाव ने रही-सही कसर पूरी कर दी।