सीतापुर: बेटे का शव ले जाने को नहीं मिली एंबुलेंस, पिता बाइक पर शव को पोस्‍टमार्टम हाउस लेकर पहुंचा

एंबुलेंस चालक नशे में डेढ़ घंटे तक टरकाता रहा, सड़क हादसे में हुयी थी बेटे की मौत  

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। यूपी में स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं का बुराहाल है। यूपी के सीतापुर जिले में सड़क हादसे में बेटे की मौत के बाद शव को पोस्‍टमार्टम हाउस ले जाने के लिए पिता को एंबुलेंस नहीं मिल पायी। आरोप है कि एंबुलेंस चालक ने शराब पी रखी थी और डेढ़ घंटे तक शव को ले जाने के ना नुकुर कर टरकाता रहा। बाद में मजबूर होकर पिता को बाइक से बेटे का शव पोस्‍टमार्टम हाउस ले जाना पड़ा। मामला सदर जिला अस्पताल का है, यहां एक व्यक्ति अपने बेटे के शव को बाइक से लेकर आया था। तालगांव क्षेत्र के निवासी छेदी का 9 वर्षीय पुत्र अंकुर कस्बे में सड़क हादसे का शिकार हो गया था। उसने इलाज के दौरान अस्पताल में दम तोड़ दिया। पुलिस ने शव पोस्टमार्टम हाउस ले जाने के लिए कह दिया।

Devi Maa Dental

कई बार किया फोन

परिजन शव वाहन की तलाश करने लगे। पिता ने बेटे के शव को पोस्टमार्टम हाउस तक ले जाने के लिए शव वाहन के ड्राइवरों से फोन करके शव ले जाने के लिए कहा तो ड्राइवरों ने जल्द से जल्द आने की बात कही लेकिन घंटों इंतजार के बाद भी कोई नहीं आया। डेढ़ घंटे से ज्यादा बीत गए। बेबस पिता का सब्र टूट गया तो बाइक से ही शव ले गया।

Bansal Saree

परिजनों का यह भी आरोप है कि शव वाहन का ड्राइवर नशे में था। फोन पर बात करते समय वह तरह-तरह की बातें कर रहा था। कभी खाना खाने की बात कहता तो कभी कुछ और। इंतजार के बाद भी नहीं आया।

जिम्मेदार भी निकले गैर जिम्‍मेदार

वहीं, इस पूरे मामले में जिला अस्पताल प्रशासन का कहना है कि पीड़ित परिवार को थोड़ा सब्र करना चाहिए था क्योंकि शव वाहन लाने ले जाने में समय लगता है और लगातार वाहन इसी काम मे ही लगे हैं।