प्रयागराज: आपरेशन थियेटर में इलाज कराने गयी युवती से गैंगरेप, बदहवासी में भाई को कागज पर लिखकर बतायी घटना

अस्‍पताल प्रशासन ने ऐसी किसी घटना से किया इनकार

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। यूपी में अस्‍पतालों में भी महिलाएं सुरक्षति नहीं रह गयी हैं। प्रयागराज जिले में पेट की आंत का आपरेशन कराने गयी युवती के साथ आपरेशन थियेटर के भीतर ही चार लोगों ने गैंगरेप कर डाला। युवती के साथ इस कदर दरिंदगी की गयी थी कि घटना के बाद वह बोल भी नहीं पा रही थी, बाद में किसी तरह कागज पर लिखकर युवती ने अपने भाई को इस घटना के बारे में बताया। पूरे मामले की शिकायत पुलिस को मिलने के बाद पुलिस ने जांच शुरू करके आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है।

Devi Maa Dental

वहीं, हॉस्पिटल प्रशासन ने आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया। प्रिंसिपल डॉ. एसपी सिंह ने कहा कि युवती के ऑपरेशन में 8 लोगों की ड्यूटी लगी थी। इसमें 5 लेडी स्टाफ शामिल थीं। फिर भी मामले में युवती के भाई की शिकायत पर 5 सदस्यीय जांच कमेटी बनाई गई है। ये कमेटी एक हफ्ते में जांच रिपोर्ट सौंपेगी।

युवती के भाई ने बताया कि पीड़ित मिर्जापुर की रहने वाली है। उसे 31 मई की रात गंभीर हालत में स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल में भर्ती किया गया था। उसकी आंत का ऑपरेशन किया गया था। देर रात जब उसको वार्ड में छोड़ा गया तो वह कुछ कहना चाह रही थी, लेकिन बोल नहीं सकी। जब उसे कागज दिया गया तो उसने लिखकर बताया कि चार लोगों ने उसके साथ रेप किया है।

Bansal Saree

इस मामले की शिकायत मिलने के बाद पुलिस के भी हाथपांव फूल गए। CO सत्येंद्र तिवारी खुद हॉस्पिटल पहुंच गए। पता चला कि पीड़ित बोलने की स्थिति में नहीं थी। ऐसे में उसका बयान दर्ज नहीं किया जा सका। उसके भाई ने जो आरोप लगाए हैं, उसकी सत्यता की जांच कराई जा रही है। हालांकि, CO ने बताया कि उसके परिवार के अन्य लोगों के भी बयान लिए गए पर वे दुष्कर्म के आरोप से सहमत नहीं हैं।

इस सनसनीखेज मामले की जानकारी जब प्राचार्य डॉ. एसपी सिंह को दी गई तो वो भी परेशान हो गए। पहले तो उन्होंने इसे खारिज ही कर दिया और बोले यह आरोप बेबुनियाद है। ऑपरेशन थिएटर में आठ सदस्य थे, जिसमें पांच महिला स्टाफ भी शामिल थीं। वहां ट्रांसपेरेंट शीशा लगा हुआ है। ऑपरेशन थिएटर के बाहर उसके परिवार के सदस्य भी मौजूद थे। फिलहाल मामले को सोशल मीडिया पर ट्रोल होते देख प्राचार्य ने वरिष्ठ चिकित्सकों की पांच सदस्यीय जांच कमेटी का गठन कर दिया है। जांच कमेटी में डॉ. वत्सला मिश्रा, डॉ. अजय सक्सेना, डॉ. अरविंद गुप्ता, डॉ. अमृता चौरसिया और डॉ. अर्चना कौल शामिल हैं।