भ्रम में जनता: सीएम योगी ने कल ही कहा था लाकडाउन नहीं लगेगा, आज कानून मंत्री ने बयान पलटा

कानून मंत्री ब्रजेश पाठक ने शासन को लिखी चिट्ठी में लाकडाउन लगाने की आशंका जतायी

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ के प्रदेश में लाकडाउन नहीं लगाने के ऐलान के एक दिन बाद ही योगी के सरकार के कानून मंत्री ने ही यूपी की स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं पर सवाल खड़े करते हुए प्रदेश में लाकडाउन लगाने की संभावना जता दी। कल सोमवार को सीएम योगी के लाकडाउन नहीं लगाने के ऐलान के बाद से सूबे की जनता को राहत का एहसास हो रहा था। कल सोमवार को सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने कहा था कि गलतफहमी में ना रहें लाकडाउन नहीं लगेगा। इसके साथ सीएम ने स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं के सुधार के प्रति भी अफसरों को लताड़ा था और व्‍यवस्‍थाएं सुधारने की हिदायत दी थी।

Devi Maa Dental

योगी के इस ऐलान के एक दिन बाद यानि आज मंगलवार को प्रदेश के कानून मंत्री ब्रजेश्‍ पाठक की शासन के अफसरों को लिखी चिट्ठी सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। मंगलवार को योगी सरकार के कानून मंत्री ब्रजेश पाठक ने हेल्थ डिपार्टमेंट के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी और प्रिंसिपल सेक्रेटरी को पत्र लिखा। इसमें कहा गया कि लखनऊ के स्थिति बहुत चिंताजनक है। अस्पतालों में बेड नहीं हैं, न तो मरीजों को समय पर एंबुलेंस मिल रही है और न ही उनका इलाज हो पा रहा है।

पद्मश्री डा योगेश की मौत पर सवाल

Bansal Saree

कानून मंत्री ने कहा कि पद्मश्री डॉक्टर योगेश प्रवीण को एंबुलेंस दिलाने के लिए फोन किया, लेकिन एंबुलेंस नहीं आई। कोरोना के मौजूदा हालात को अंगर कंट्रोल नहीं किया गया तो हमें लखनऊ में लॉकडाउन लगाना पड़ सकता है।

ये बोले प्रदेश कांग्रेस अध्‍यक्ष

कानून मंत्री की चिट्ठी सामने आने के बाद विपक्ष योगी सरकार पर हमलावर है। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कैबिनेट मंत्री की चिट्ठी सोशल मीडिया पर पोस्ट करते हुए कहा कि जिस मुख्यमंत्री से लखनऊ नहीं संभल रहा है उससे UP क्या संभलेगा? कहा कि लखनऊ के हालात बेहद खौफनाक और चिंताजनक हैं। UP सरकार के कानून मंत्री की यह चिट्ठी स्वास्थ्य व्यवस्था का हाल बयां कर रही है।

ये हैं चिट्ठी के अंश

4 से 7 दिन में मिल रही रिपोर्ट: कैबिनेट मंत्री बृजेश पाठक ने लिखा है कि, चीफ मेडिकल ऑफिसर (CMO) के ऑफिस में फोन करने पर उत्तर नहीं दिया जा रहा है। जिसकी शिकायत सीनियर ऑफिसर्स से की गई है। कोरोनावायरस की रिपोर्ट 4 से 7 दिन में आ रही है।

एडीशनल चीफ सेक्रेटरी का दावा झूठा

मंत्री ने कहा कि लखनऊ में बिगड़ी स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर 8 अप्रैल को मैं खुद CMO के ऑफिस जा रहा था, लेकिन हेल्थ डिपार्टमेंट के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी ने फोन पर आश्वासन दिया तो मैं नहीं गया। उसके बाद भी परिस्थितियों में कोई सुधार नहीं हुआ है।

साहित्‍कार प्रवीण की मौत का जिक्र

मंत्री पाठक ने लिखा कि मेरी विधानसभा क्षेत्र के पद्मश्री साहित्यकार डॉ. योगेश प्रवीण की सोमवार दोपहर अचानक तबीयत बिगड़ी, जिसकी सूचना मिलने पर मैंने खुद CMO से फोन पर बात की और उन्हें तत्काल एंबुलेंस मुहैया कराने का अनुरोध किया, लेकिन कई घंटों के बाद भी उन्हें एंबुलेंस नहीं मिल पाई और समय से इलाज न मिल पाने के कारण उनकी मौत हो गई।

कम किट मिलने पर सवाल

मंत्री ने कहा कि जिले में हर दिन 4-5 हजार कोरोना केस मिल रहे हैं। ऐसे में लखनऊ में प्राइवेट पैथोलॉजी सेंटर में कोविड टेस्ट बंद करा दिया गया है। सरकारी अस्पतालों में जांच रिपोर्ट आने में कई दिन लग रहे हैं। हेल्थ डिपार्टमेंट के एक बड़े ऑफिसर से एक हफ्ते पहले बात हुई थी, उन्होंने बताया कि रोजाना 17,000 टेस्टिंग किट की जरूरत है, लेकिन सिर्फ 10,000 किट ही मिल पा रही हैं।