मेरठ: आक्‍सीजन सप्‍लाई रूकने से पांच मरीजों की मौत, परिजनों ने अस्‍पताल में की तोड़फोड़, हंगामा

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। यूपी में कोरोना संक्रमण से हो रही मौतों का सिलसिला जारी है। वहीं लापरवाही बरतने पर मरीजों के परिजन अस्‍पतालों में हंगामा भी कर रहे हैं। मेरठ के अस्‍पताल में सोमवार को पांच संक्रमितों की मौत हो गयी। मरीजों के इलाज में लापरवाही बरतने का आरोप लगाकर मृतकों के परिजनों ने अस्‍पताल में जोरदार हंगामा काटा। आरोप है कि अस्‍पताल में आक्‍सीजन सप्‍लाई ठप हो जाने की वजह से अस्‍पताल में भर्ती मरीजों की मौत हुयी है। परिजनों ने गुस्से में अस्पताल में तोड़फोड़ भी की। हंगामे की सूचना पर थाना मेडिकल पुलिस मौके पर पहुंची। बाद में मौके पर पहुंचे अधिकारियों ने किसी तरह परिजनों को शांत कराया।

Devi Maa Dental

मेरठ के थाना मेडिकल क्षेत्र में न्यूटीमा अस्पताल है, इसमें नॉन कोविड और कोविड मरीज भर्ती है। आरोप है कि इस अस्पताल में रविवार को शाम तक पांच मरीजों की मौत हो गई। इनमें से तीन मरीज ICU में भर्ती थे। अचानक शाम को इन मरीजों की मौत होने से परिजनों का गुस्सा भड़क गया।

उन्होंने आरोप लगाया कि आक्सीजन की सप्लाई रूकने और इलाज में लापरवाही की वजह से मरीजों की जान गई। मरीज के तीमारदारों ने अस्पताल में हंगामा शुरू कर दिया। इस दौरान वहां तोड़फोड़ भी की गई।

Bansal Saree

इस हंगामे की सूचना पर थाना मेडिकल के अलावा नौचंदी समेत कई थानों की पुलिस मौके पर पहुंच गई। हंगामा कर रहे लोगों ने आरोप लगाया कि ऑक्सीजन की सप्लाई रुकने से आरके पुरम निवासी अशोक गोयल (55), हापुड़ निवासी पवन वर्मा (42) और मुरादाबाद निवासी एक महिला की मौत हुई है। इसके अलावा दो अन्य मरीजों की मौत दोपहर में हुई थी।

वहीं दूसरी ओर अस्पताल प्रबंधन ने मरीज के तीमारदारों के आरोपों को निराधार बताया है। प्रबंधन का कहना है कि मरीजों को बेहतर इलाज दिया जा रहा है। आक्सीजन की आपूर्ति कम जरूर है लेकिन खत्म नहीं हुई थी। CMO अखिलेश मोहन का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है। अस्पताल में ऑक्सीजन थी, बाधित हुई या नहीं हुई। यह जांच के बाद ही पता चलेगा।