माफिया डान मुख्‍तार की पंजाब वाली एंबुलेंस के फर्जी रजिस्‍ट्रेशन मामले में डाक्‍टर और उसके भाई को किया गिरफ़्तार

डाक्‍टर से हस्‍ताक्षर कराने वाले मऊ से गिरफ़्तार राजनाथ यादव ने खोले कई राज

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। पंजाब में बाहुबली माफिया मुख्‍तार अंसारी के पास फर्जी नम्‍बर की एंबुलेंस मामले में पुलिस ने मऊ जिले के श्‍याम संजीवनी अस्‍पताल की संचालिका डाक्‍टर अलका राय और उनके भाई एसएन राय को गिरफ़्तार कर लिया है। एंबुलेंस के दस्‍तावेजों पर अलका राय से हस्‍ताक्षर कराने वाले मऊ के राजनाथ यादव को भी पुलिस ने गिरफ़्तार कर लिया है। राजनाथ यादव के बयान के आधार पर ही पुलिस ने डाक्‍टर और उनके भाई को गिरफ़्तार किया है। पुलिस की इस कार्रवाई के बाद बांदा जेल में बंद माफिया डान की मुश्किलें और बढ़ती नजर आ रही हैं। डाक्‍टर और उसके भाई के साथ मिलकर फर्जी कागजात के आधार पर एंबुलेंस का रजिस्ट्रेशन कराने का आरोप है। इस केस में मुख्तार अंसारी को भी आरोपी बनाया गया है।

Devi Maa Dental

दरअसल, दरअसल, बीते 31 मार्च को जब मुख्तार अंसारी पंजाब की रोपड़ जेल में बंद था तब उसे एक यूपी नंबर की एम्बुलेंस से मोहाली कोर्ट में पेश किया गया था। इस एंबुलेंस पर बाराबंकी का नंबर था। हालांकि पुलिस का शिकंजा कसते ही मुख्तार के गुर्गे उसे रुपनगर में एक ढाबे के पास लावारिस हालत में छोड़कर फरार हो गए थे। बाराबंकी पुलिस एंबुलेंस को पंजाब से अपनी कस्टडी में ले चुकी है। वर्तमान में मुख्तार अंसारी बांदा जेल में बंद है।

एंबुलेंस (UP 41 AT 7171) का बाराबंकी कनेक्शन निकलने के बाद परिवहन विभाग व स्वास्थ्य विभाग द्वारा दस्तावेजों की पड़ताल की गई। इसमें पाया गया कि परिवहन विभाग में मऊ स्थित श्याम संजीवनी हॉस्पिटल का लेटर और डॉक्टर अलका राय का वोटर ID कार्ड लगाया गया था। लेकिन, रजिस्ट्रेशन डॉक्यूमेंट व मकान का पता फर्जी पाया गया। एम्बुलेंस का रजिस्ट्रेशन डॉक्टर अलका राय के नाम दर्ज है, इसलिए बाराबंकी के ARTO ने उनके खिलाफ नामजद केस दर्ज कराया। यह केस नगर कोतवाली में IPC की धारा 419, 420, 467, 468 और 471 की धाराओं में दर्ज है। इस प्रकरण में मुख्तार अंसारी को 120B का आरोपी बनाया गया है। इस केस में पुलिस ने डॉक्टर अलका राय के बयान के आधार पर मऊ के थाना सराय लखनी के अहिरौली गांव निवासी राजनाथ यादव को पकड़ा था। उस पर आरोप है कि उसने डॉक्टर राय पर एंबुलेंस को लेकर दबाव बनाया था।

Bansal Saree