लखनऊ: लोग मर रहे हैं उधर KGMU के स्‍टाफ के साथ मिलकर हो रही थी रेमेडिसिवर इंजेक्‍शन की कालाबाजारी

पुलिस 10 आरोपियों को गिरफ़्तार कर जेल भेजा, 15 हजार में बेचते थे नकली इंजेक्‍शन  

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। यूपी में जीवन रक्षक दवाओं की कालाबाजारी के गिरोह का पुलिस ने शुक्रवार को पर्दाफाश कर दिया। पुलिस ने तीन अलग अलग स्‍थानों से आवश्‍यक दवाओं की कालाबाजारी के दस आरोपियों को गिरफ़्तार कर लिया है। इनके कब्‍जे से लाखों रूपयों की कीमत के 138 रेमेडिसिवर इंजेक्‍शन बरामद किए गए हैं। इस पूरे घालमेल में किंग जार्ज मेडिकल यूनि‍वर्सिटी KGMU के स्‍टाफ की मिलीभगत भी सामने आयी है। लख़नऊ पुलिस कमिश्नर डीके ठाकुर के निर्देश पर एसीपी चौक के नेतृत्व में यह कालाबाजारी करने वाले पकड़े गए हैं। बीती रात भी चार ऐसे जालसाजों को गिरफ्तार किया था। जिनकी निशानदेही पर लख़नऊ पुलिस लगातार छापेमारी कर रही हैं।

Devi Maa Dental

लखनऊ कमिश्नरेट पुलिस ने राजधानी के नाका और अमीनाबाद इलाके में कार्यवाही करते हुए जीवन रक्षक इंजेक्शन रेमडिसिविर की बड़ी खेप बरामद की। नाका पुलिस ने इंजेक्शन कि कालाबाजारी करने वाले 4 आरोपियों मनका पुर, गोंडा निवासी राम सागर, राजाजीपुरम, तालकटोरा निवासी अमनदीप मदान, बनिया खेड़ा, मोहनलालगंज निवासी अंकुर वैश्य और संडीला हरदोई निवासी अंशु गुप्ता को पकड़ा है।

आरोपियों के पास से 116 रेमडीसीविर इंजेक्शन और 1,94,310 रुपए नगद बरामद हुआ है। जबकि अमीनाबाद पुलिस ने कश्मीरी मोहल्ला निवासी आमिर अब्बास और याहियागंज चौक निवासी सौरभ रस्तोगी को दबोचा। जिनके पास से 11 इंजेक्शन और 39 हजार रुपए की नगदी बरामद की है। सभी आरोपियों को न्यायालय के समक्ष पेश कर जेल भेज दिया गया है।

Bansal Saree

पुलिस का कहना है कि उन्हें शिकायत मिली थी कि कुछ लोग जीवन रक्षक इंजेक्शन रेमडेसिविर की कालाबाजारी कर रहे हैं और मंहगे दामों पर पीड़ित के परिवार वालों को बेच रहे हैं। जिस पर पुलिस ने कार्यवाही कर गिरोह को दबोच लिया।

केजीएमयू स्टाफ चला रहा था थे गोरखधंधा

जिस मेडिकल कॉलेज को पूरे प्रदेश का नाज रहता है। उसी मेडिकल कॉलेज में खुलेआम असली रेम डे सीवर इंजेक्शन की जगह नकली इंजेक्शन बेचे जा रहे थे। ये काम भी वहीं का स्टाफ कर था था। पुलिस ने इंजेक्शन की कालाबजारी करने वाले गिरोह का भंडाफोड़ करते हुए 4 लोगों को दबोचा है। आरोपियों के पास से नकली इंजेक्शन और नगदी बरामद हुई है।

मनाकनगर पुलिस को शिकायत मिली थी कुछ लोग नकली रेम डे सिवी र इंजेक्शन की कालाबजारी कर रहे हैं। जिस पर पुलिस ने तत्काल कार्यवाही करते हुए सुल्तानपुर निवासी विकास दुबे, खदरा हसनगंज निवासी कौशल शुक्ला, सोनभद्र निवासी अजीत मौर्य और देहात कोतवाली बलरामपुर निवासी राकेश तिवारी को गिरफ्तार किया।

इनके कब्जे से 91नकली रेम डे सीवर इंजेक्शन और 5250 रुपए के अलावा एक स्कूटी बरामद हुई है। आरोपी विकास दुबे गैंग का सरगना बताया जा रहा है। आरोपी केजीएमयू में नर्सिंग तृतीय वर्ष का छात्र है और वहीं हॉस्टल में रहता है।

15,000 में बेच रहे थे इंजेक्शन
सभी आरोपी पीड़ितों के परिजनों को झांसा देकर नकली इंजेक्शन को असली बताकर 15000 रुपए की मोटी रकम वसूल कर रहें थे। बताया जा रहा है कि आरोपी विकास दुबे के अलावा आरोपी अजीत मौर्य केजीएमयू के लॉरी हॉस्पिटल में ओटी टेक्नीशियन के पद पर है जबकि राकेश तिवारी क्वीन मेरी हॉस्पिटल में स्टाफ नर्स है और कौशल शुक्ला भी सीतापुर से डी फार्मा की पढ़ाई कर चुका है।