सबक: बेटा करता था पिता को प्रताडि़त, बहनों ने दिया कंधा, भाई को अंतिम संस्‍कार से रखा दूर

यूपी के इस जिले का है मामला

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। पिता की मौत के बाद बहनों ने नालायक भाई को पिता का अंतिम संस्‍कार नहीं करने दिया। चार बहनों ने पिता को कंधा दिया और पूरे विधि विधान से अंतिम संस्‍कार किया। बताया जा रहा है कि बेटा पिता को अक्‍सरप्रताडि़त करता रहता था।

Devi Maa Dental

यह मामला झांसी जिले के नवाबाद थाना क्षेत्र के डडियापुरा गल्ला मंडी रोड का है यहां के निवासी गौरेलाल साहू की शुक्रवार को मौत हो गई थी। अर्थी को उसकी चार बेटियों ने कंधा दिया। साथ ही श्मशान में विधि-विधान के साथ मुखाग्नि देकर अंतिम संस्कार की रस्म निभाई। इस दौरान बहनों ने अपने भाई को इस अंतिम संस्कार से दूर रखा। दरअसल, शहर में डडियापुरा गल्ला मंडी रोड निवासी गोरे लाल साहू की शुक्रवार को सुबह हार्ट अटैक से मौत हो गई थी।

मौत की खबर मिलते ही उसकी चारों बेटियां (शोभा, संगीता, लेखनी और स्वाति) मायके पहुंचीं और पिता के अंतिम संस्कार की जिम्मेदारी उठाई. बेटियों ने पिता की अर्थी को कंधा देकर श्याम चौपड़ा स्थित श्मशान घाट तक पहुंचाया और फिर मुखाग्नि देकर अंतिम संस्कार किया तो लोग आश्चर्य चकित रह गए क्योंकि गौरेलाल का पुत्र होते हुए लड़कियों ने अंतिम संस्कार किया।

Bansal Saree

पिता को प्रताड़ित करता बेटा, बहनें करती थीं देखभाल

इस पर संगीता साहू ने बताया कि उनका भाई पिता को प्रताड़ित करता था। इसलिए चारों बहनें ही पिता की देखभाल करती थीं। जब पिता का निधन हुआ तो सभी बहनों ने तय किया कि भाई को शव को हाथ भी नहीं लगाने देंगे। सबने मिलकर अंतिम संस्कार की रस्म को निभाया। उन्होंने भाई व भाभी को शव के पास फटकने नहीं दिया। इस घटनाक्रम ने ऐसे पुत्रों को सबक दिया है, जो अपने माता-पिता की देखभाल नहीं करना भी जरूरी नहीं समझते।