कानपुर: नेशनल हाईवे पर बस और डीसीएम के ओवरटेक के बीच फंसकर टैम्‍पो चकनाचूर, 17 की मौत

भीषण हादसे में 15 लोग घायल, पीएम मोदी और सीएम योगी ने जताया शोक

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। यूपी के कानपुर में भीषण सड़क हादसे में 17 लोगों की दर्दनाक मौत हो गयी। एक्‍सीडेंट में 15 लोग घायल हुए हैं। डीसीएम मिनी ट्रक और बस में ओवरटेक करने दौरान बीच में फंसे टैम्‍पों में टक्‍कर लग गयी। दोनों भारी वाहनों के बीच फंसा टैम्‍पो चकनाचूर हो गया। मृतकों 30 वर्ष से कम उम्र के 11 युवा भी शामिल हैं। 10 लोगों की हालत गंभीर बनी हुयी है उनका इलाज जारी है।

Devi Maa Dental

सीएम योगी आदित्‍यनाथ और प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने हादसे को लेकर गहरा शोक व्‍यक्‍त किया है। प्रधानमंत्री मोदी ने PMNR फंड से मृतकों के परिजनों को 2-2 लाख रुपए और घायलों को 50-50 हजार रुपए की सहायता राशि देने की घोषणा की है। उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से भी मृतकों को 2-2 लाख रुपए मुआवजा दिए जाएंगे।

हादसे की सूचना मिलने के बाद पहुंची पुलिस ने एंबुलेंस बुलाई, लेकिन घायलों और मृतकों के शव इतने ज्यादा थे कि एंबुलेंस भी कम पड़ गए। आनन-फानन में रेस्क्यू टीम ने लोडर के जरिए कई घायलों को हैलट हॉस्पिटल पहुंचाया। हादसा उस वक्त हुआ, जब हाईवे पर DCM का ड्राइवर बस को ओवरटेक कर रहा था। इसी दौरान टेम्पो दोनों के बीच में फंस गया।

Bansal Saree

एक ही गांव के सभी मृतक

हादसे में जितने लोगों की मौत हुई है, उनमें सभी टेम्पो में सवार थे। उसमें करीब 18-19 लोग थे। सभी कानपुर के सचेंडी थानाक्षेत्र के लाल्हेपुर गांव के रहने वाले थे। बताया जाता है कि ये लोग एक बिस्किट फैक्टरी में काम करते थे। नाइट शिफ्ट में काम के लिए फैक्ट्री जा रहे थे। इसी दौरान हादसा हो गया।

जय अंबे ट्रेवल्स की स्लीपर बस कानपुर से गुजरात के सूरत जा रही थी। इसमें करीब 115 लोग सवार थे। कानपुर से 15 किलोमीटर दूर बस जैसे ही किसान नगर पहुंची पीछे से एक DCM ने ओवरटेक करने की कोशिश की। इस दौरान सामने से आ रहा टेम्पो बीच में फंस गया और ये हादसा हो गया। टेम्पो में सवार सभी लोगों की मौत होने की सूचना है। इसके अलावा बस में सवार कई लोगों की भी मौत हुई है।

घटनास्थल पर पहुंची पुलिस ने घायलों को बाहर निकालना शुरू कर दिया है। इसके अलावा लोडर में भरकर कई शव अस्पताल पहुंचाए गए। एक लोडर में 7-7 शव रखकर हैलट अस्पताल लाए गए। दर्दनाक मंजर देखकर हर कोई सहम सा गया। हैलट अस्पताल प्रशासन की तरफ से अलर्ट जारी कर दिया गया है। डॉक्टर्स और मेडिकल स्टाफ को घर से वापस बुला लिया गया है।