कानपुर: रात 11 बजे गर्लफ्रेंड को मिलने बुलाया, कार में डालकर दोस्‍तों संग पूर्व प्रेमी ने किया गैंगरेप का प्रयास

दुष्‍कर्म में असफल रहने पर युवती को कार से फेंक कर फरार हुए

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। कानपुर में रईसजादों ने एक युवती के साथ चलती कार में गैंगरेप का प्रयास किया। शोर मचाने और विरोध करने पर युवकों ने चलती कार से युवती को फेंक दिया और फरार हो गए। घटना कानपुर के जाजमऊ इलाके की है। रात करीब 11 बजे झगड़े के बाद कुछ युवकों ने गर्लफ्रेंड को मिलने के बुलाया था। इसी दौरान युवक कार में डालकर युवती के साथ अश्‍लील हरकतें करने लगे और गैंगरेप का प्रयास किया। उस वक्‍त कार में युवती का पूर्व प्रेमी भी मौजूद था।

Bansal Saree

राहगीरों की मदद से युवती जाजमऊ चौकी पहुंची तो रिपोर्ट दर्ज करने की बजाए उसे लौटा दिया गया। उच्च अफसरों तक मामला पहुंचने पर शनिवार दोपहर को डीसीपी FIR दर्ज करने का आदेश दिया। पीड़िता लखनऊ की रहने वाली है। उसकी उम्र 23 साल है। वह कानपुर के नवाबगंज में किराए के मकान में रहने के साथ ही प्राइवेट नौकरी करती है। युवती ने बताया कि कुछ महीने पहले एक दोस्त के जरिए उसकी मुलाकात चमनगंज में रहने वाले युवक से हुई थी। इसके बाद दोनों के बीच नजदीकियां बढ़ गई थीं, लेकिन प्रेमी को किसी अन्य युवती से बात करते हुए पकड़ लेने पर दोनों के बीच विवाद हो गया था।

आरोप है कि शुक्रवार देर रात को एक्स ब्वॉयफ्रेंड ने एक दोस्त से फोन करवाकर उसे मिलने के लिए बुलाया। इसके बाद युवक उसे लेने कार से नवाबगंज पहुंचे। कार में बैठने के कुछ देर बात ही युवकों ने कार को लॉक कर लिया। गाड़ी में उसके ब्वॉय-फ्रेंड के साथ ही दो दोस्त भी मौजूद थे। कुछ ही देर में युवकों ने कार की लाइट बंद कर दी और तेज आवाज में गाने बजाने लगे और अश्लीलता करते हुए रेप करने के लिए टूट पड़े। चीखने और विरोध करने पर उसे पीटा और गला दबाया। इस दौरान युवती के कपड़े तक फट गए।

Devi Maa Dental

चलती कार से फेंका

दुष्कर्म में असफल होने और फंसने के डर से उसे चलती कार से हाईवे पर जाजमऊ चेक-पोस्ट के पास धक्का देकर फेंक दिया। यहां के लोगों ने उसे जाजमऊ चौकी पहुंचाया। चौकी इंचार्ज सत्यपाल सिंह ने कहा कि युवक चमनगंज के रहने वाले हैं। चमनगंज थाने में रिपोर्ट दर्ज कराने की बात कहकर भगा दिया।

मामले की जानकारी होने के बाद डीसीपी ईस्ट प्रमोद कुमार ने आरोपितों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करने के साथ ही अरेस्ट करने का आदेश दिया है। युवती ने बताया कि इलाकाई लोगों की मदद से वह चकेरी थाने की जाजमऊ चौकी पहुंची, लेकिन चौकी इंचार्ज सत्यपाल सिंह ने उन्हें रिपोर्ट दर्ज करने की बजाए भगा दिया। अगर चौकी इंचार्ज एक्टिव होकर आरोपितों को पकड़ने का प्रयास करते तो तीनों युवक रात में ही कार समेत पकड़ जाते। डीसीपी ईस्ट ने भी चौकी इंचार्ज के लापरवाही पर जांच का आदेश दिया है। आरोप सही पाए जाने पर उनके खिलाफ भी विभागीय कार्रवाई की जाएगी।