अलीगढ़ में संवेदनहीनता: आठ हजार रूपए के लिए बेटे को तीन दिन से मां के शव के लिए टरका रहा अस्‍पताल स्‍टाफ

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। यूपी में कोरोना महामारी लगातार संवेदनाओं को मारती जा रही है। संकमण से मृत हुयी मां का शव पाने के लिए बेटा तीन दिनों से अस्‍पताल के बाहर मौजूद है लेकिन उसे अपनी मां का शव ही नहीं दिया जा रहा है। आरोप है कि अस्‍पताल स्‍टाफ मां का शव देने के लिए बेटे से आठ हजार रूपयों की मांग कर रहे हैं। मामला यूपी के अलीगढ़ जिले का है। यहां पंडित दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल में शंकर 30 अप्रैल से हर दिन सुबह से लेकर रात 11 बजे तक अस्पताल के बाहर इस आस में खड़े रहते हैं कि आज उनकी मां का शव उन्हें सौंप दिया जाएगा। लेकिन हर दिन निराशा हाथ लगती है।

Devi Maa Dental

शंकर का आरोप है कि अस्पताल स्टाफ ने शव देने के लिए 8 हजार रुपए की डिमांड की है। ये रुपए शव के अंतिम संस्कार के लिए मांगे गए हैं। शंकर बेहद गरीब है। वह रुपए दे नहीं पा रहा है। न ही उसकी कोई सुनवाई हो रही है।

24 अप्रैल को पॉजिटिव, 6 दिन बाद मौत
क्वार्सी थाना क्षेत्र के बेगम बाग निवासी 80 साल की बीना घोष मूलत: कोलकाता की रहने वाली थीं। यहां गांधी आंख अस्पताल से रिटायर्ड कर्मी थीं। उनकी कोविड रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर 24 अप्रैल को दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल में भर्ती करवाया था। छह दिन बाद 30 अप्रैल की शाम करीब 6 बजे अस्पताल में उनकी मौत हो गई थी। मृतक महिला के बेटे शंकर का आरोप है कि उस दौरान अस्पताल के एक कर्मचारी से उसकी मां का शव देने के लिए बात भी हुई तो उसने 8 हजार रुपए की मांग की थी। अस्पताल कर्मचारी के द्वारा बताया गया कि उन आठ हजार रुपयों से अंतिम संस्कार किया जाएगा।

Bansal Saree

रात 11 बजे तक रोज खड़ा रहता है बेटा

शंकर अभी तक 8 हजार रुपए जुटा नहीं पाया है। वह अपनी मां का शव लेने के लिए सुबह सात बजे ही अस्पताल पहुंच जाता है और रात के 11 तक बज तक इस आस में खड़ा रहता है कि किसी को उस पर तरस आ जाए। अस्पताल के कर्मचारी उसको कोविड-19 अस्पताल का हवाला देकर दूर-दूर रहने की बात कहकर मां के शव के पास नहीं जाने देते। उसने प्रशासन से गुहार लगाई है कि उसकी मां का शव उसे दिलाया जाए।