मेरठ में गुस्‍साए व्‍यापारी पुलिस को चाबी देकर बोले आप संभालो दुकान, बाजार बैरीकेड कराने से भड़क गए व्‍यापारी

व्‍यापारियों को मनाकर बैकफुट पर आयी पुलिस, बैरीकेड हटाए, उत्‍पीड़न का आरोप  

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। लाकडाउन में मानसिक प्रताड़ना और आर्थिक नुकसान झेल रहे व्‍यापारी सोमवार को मेरठ जिले में पुलिस से भिड़ गए। बाजार में बैरीकेड करवा रही पुलिस को देखकर व्‍यापारियों का गुस्‍सा भड़क गया। गुस्‍से में वहां भारी संख्‍या में व्‍यापारी जमा हो गए। हील हुज्‍जत के दौरान दर्जनों व्‍यापा‍रियों ने अपनी अपनी दुकानों की चाबियां पुलिस को सौंप दीं। व्‍यापारियों ने आरोप लगाया कि कोरोना के नाम पर पुलिस अब व्‍यापारियों के उत्‍पीड़न पर उतर आयी है। पुलिस की मनमानी की वजह से रोजी रोटी पर भी संकट अब गहरा रहा है। गुस्साए कारोबारी थाना देहली गेट पहुंचे और हंगामा किया। व्यपारियों ने पुलिस को अपनी दुकानों की चाबियां भी सौंप दी। व्यापारियों ने कहा कि पुलिस कोरोना के नाम पर उनका उत्पीड़न कर रही है।

Devi Maa Dental

पुलिस बेरिकेड को लेकर विवाद

पुलिस ने कोटला मंडी और आसपास के इलाके में दो दिन से दोनों रास्तों पर बैरियर लगा रखे थे। संयुक्त व्यापार संघ के महामंत्री सरदार दलजीत सिंह का कहना है कि अगर तीन घंटे बाजार खुलेगा तो भीड़ तो होगी ही। पिछले एक महीने से यही चल रहा है।

Bansal Saree

सुबह सिर्फ तीन घंटे के लिए बाजार खुलता है, ऐसे में कितने ग्राहक सामान ले पाएंगे। दोपहिया वाहनों को बैरियर के ‌कारण निकलने में परेशानी हो रही थी। बैरियर के कारण सामाजिक दूरी भी खत्म हो रही थी।

खाद्य सामग्री का बड़ा बाजार कोटला

कोटला बाजार मेरठ का बड़ा खाद्य बाजार है। जहां किराने के सामान से लेकर घर की सभी ज़रूरी चीज़ों की थोक की दुकाने हैं। यहां तो थोक का बड़ा कारोबार होता है। गांव, देहात ही नहीं शहर के छोटे विक्रेता भी यहां से दुकान के लिए सामान ले जाते हैं।

आम दिनों में इस बाजार में हमेशा जाम लगा रहता है। जब पूरा दिन बाजार खुलता है तो जाम रहता है। अभी लॉकडाउन में कुल तीन घंटे बाजार खुलने से भीड़ काफी बढ़ रही थी। इसे देखते हुए ही पुलिस ने यहां सामाजिक दूरी बनाने के लिए दोनों एंट्री प्वाइंट पर बैरियर लगवाए थे।

बैकफुट पर पुलिस

बैरियर तो दो दिन से बाजार में लगे हैं, लेकिन सोमवार को ज्यादा परेशानी होने पर कारोबारियों ने हंगामा किया। गुस्साए कारोबारी थाना देहली गेट पहुंचे और थानाध्यक्ष राजेंद्र त्यागी को दुकानों की चाबियां सौंप दी। बाद में थानाध्यक्ष मौके पर गए बैरियर हटवाकर उसे वन-वे कर दिया।