यूपी के कांवडि़ये हरिद्वार में घुसे में तो होगी एफआईआर, 22 जुलाई से उत्‍तराखंड बार्डर सील

अगर दूसरे राज्‍यों से कांवडि़ये आए तो 14 दिन क्‍वारंटीन होंगे, वाहन सीज होंगे  

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। उत्‍तराखंड सरकार के कांवड़ यात्रा पर रोक लगाने के बाद अब शासन ने कांवडि़यों को रोकने के लिए सख्‍त निर्देष जारी कर दिए हैं। उत्‍तराखंड सरकार की ओर से साफ कहा गया है कि यदि दूसरे राज्‍यों से कांवडि़ये हरिद्वार आए तो उन पर सीधे एफआईआर करायी जाएगी। 22 जुलाई से हरिद्वार की सभी सीमाओं को सील कर दिया जाएगा। गौरतलब है कि पीएम मोदी के वक्‍तव्‍य के बाद भी उत्‍तर प्रदेश सरकार ने कांवड़ यात्रा पर रोक नहीं लगायी है उल्‍टे कांवड़ यात्रा कराने के लिए शासन की ओर से तैयारियां शुरू कर दी गयी हैं।

Bansal Saree

जिसके मद्देनजर उत्‍तराखंड सरकार ने अपनी सख्‍ती बढ़ानी शुरू कर दी है। उत्‍तराखंड में खासतौर पर हरिद्वार में कांवडि़यों के प्रवेश पर कड़ा प्रतिबंध रहेगा।

बार्डर पर पुलिस बल तैनात रहेगा

Devi Maa Dental

कोरोना के चलते उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने 13 जुलाई की देर शाम आदेश जारी कर कावड़ यात्रा पर पूरी तरीके से रोक लगा दी थी। कांवड़ियों को हरिद्वार आने से रोकने के लिए रणनीति तैयार की गई। 22 जुलाई से हरिद्वार जिले के बॉर्डर सील कर दिए जाएंगे, ताकि कांविड़यों को हरिद्वार आने से रोका जा सके। इसके लिए बॉर्डर पर पर्याप्त संख्या में पुलिस बल तैनात रहेगा।

14 दिन क्‍वारंटीन होंगे, वाहन सीज किए जाएंगे

हरिद्वार सीमा में अगर कांवड़ियों ने प्रवेश की कोशिश की तो उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करके उन्हें 14 दिन तक क्वारैंटाइन सेंटर में भेजा जाएगा। अलग-अलग स्थानों पर क्वारैंटाइन सेंटर बनाए गए हैं। वहीं, कांवड़ियों ने वाहनों से प्रवेश किया तो ऐसे वाहनों को सीज करके प्रशासन द्वारा बनाई गई पार्किंग में भेजा जाएगा। सख्त हिदायत है कि किसी भी कीमत पर यूपी की सीमा से कांवड़ियों को हरिद्वार की सीमा में घुसने नहीं दिया जाएगा।