बोर्ड परीक्षाओं की ऐसे करें तैयारी, सरस्‍वती विद्या मन्दिर इंटर कालेज बीसलपुर के प्रधानाचार्य ने दिए ये टिप्‍स

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। छात्रों के लिए परीक्षाओं की तैयारी एक बड़ा लक्ष्‍य होता है। अगर परीक्षाओं की तैयारी अच्‍छी होगी तब निश्चित तौर पर छात्र परीक्षाओं में भी सफलता का उम्‍दा प्रदर्शन कर सकेंगे। हाल ही में हालांकि कोरोना संक्रमण के कारण बोर्ड परीक्षाओं को कुछ समय के टाल दिया गया है। ऐसे समय में छात्रों को परीक्षाओं की तैयारी करने के लिए कुछ और समय भी मिल गया है। छात्र परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें, किन तरीकों को अपनाकर छात्र परीक्षाओं में बेहतर प्रदर्शन कर सकते हैं। इस बारे में छात्रों को परीक्षा में सफलता के टिप्‍स देने के लिए न्‍यूज टुडे नेटवर्क ने सरस्‍वती विद्या मन्दिर इंटर कालेज बीसलपुर पीलीभीत के प्रधानाचार्य रामशरण सिंह से बात की।

Devi Maa Dental

प्रधानाचार्य रामशरण सिंह ने परीक्षाओं की तैयारी के बारे में बताया कि परीक्षाओं के समय छात्रों के लिए पढ़ाई करने का सबसे उत्‍तम समय ब्रम्‍हमुहूर्त का होता है। यानि सुबह सूर्योदय से पहले छात्र पढ़ाई शुरू करते हैं तो वह सबसे अच्‍छा होता है। क्‍योंकि सुबह के समय याद किया गया पाठ बहुत जल्‍दी याद होता है। उन्‍होंने बताया कि पढ़ाई के समय छात्रों को संतुलित आहार लेना चाहिए। ज्‍यादा भोजन लेने पर नींद आती है और ऐसे में पढ़ाई बेहतर ढंग से नहीं हो पाती। यदि पेट खाली है अगर आपने भोजन नहीं किया है तो पाठ याद नहीं होता है। ऐसे में परीक्षाओं के समय छात्रों को संतुलित आहार लेना चाहिए।

बताया कि सुबह के समय छात्रों को पढ़ाई शुरू करने से पूर्व थोड़ा व्‍यायाम और सूर्य नमस्‍कार आदि कर लेना चाहिए। इससे शरीर में सुस्‍ती का भाव नहीं रहता है और पढ़ाई के प्रति मन एकाग्र करने में सहायता मिलती है। पढ़ाई के लिए छात्र ऐसे शांत स्‍थान का चयन करें जहां बाहरी ध्‍वनि प्रदूषण पठन पाठन में बाधा ना डाल सकें। उन्‍होंने बताया कि परीक्षाओं की तैयारी के लिए सभी विषयों की पढ़ाई का टाइम टेबिल बनाना बेहद जरूरी है। इस प्रक्रिया से सभी विषयों की पढ़ाई को उचित निर्धारित समय मिल जाता है।

Bansal Saree

जब छात्र परीक्षाओं की तैयारी के लिए पढ़ाई कर रहे हों उसी समय छात्रों को पढ़ाई के साथ साथ नोट्स भी बना लेना चाहिए ये नोट्स रिवीजन के समय बेहद कारगर साबित होते हैं। अक्‍सर सिर्फ पढ़ाई करते रहने से छात्रों का दिमाग बोझिल हो जाता है। ऐसे में छात्र पढ़ाई के प्रति उदासीनता अपनाने लगते हैं। ऐसी परिस्थिति से बचने के लिए पढ़ाई के साथ साथ मनोरंजन का समय भी निकालना चाहिए। दिमाग को रिफ्रेश करने के लिए छात्रों को कुछ समय मनोरंजन भी बेहद जरूरी होता है। प्रधानाचार्य ने कहा कि पढ़ाई करते समय छात्र यदि इन सभी बातों का ध्‍यान रखेंगे तो जरूर परीक्षाओं के लिए अच्‍छी तैयारी कर सकते हैं।