यूपी के पांच आईपीएस अफसरों ने खुद को पद से हटाने की मांग को लेकर सीनियर्स को लिखा पत्र

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। यूपी के पुलिस अफसरों में तनाव बढ़ता जा रहा है कभी चुनावों और कभी कई अन्‍य मामलों में सियासत की दखलंदाजी के कारण अफसरों में तनाव बढ़ रहा है। यूपी के पांच जिलों के आईपीएस अफसरों ने खुद को पद से हटाने के लिए सीनियर्स को पत्र लिखा है। वहीं दो कैबिनेट मंत्रियों वाले जिले के कप्‍तान भी पिछले आठ दिनों से अवकाश पर गए हुए हैं। इससे पहले भी कई कप्तान छुट्टी पर गए और वापसी से पहले उनका ट्रांसफर हो गया।

Devi Maa Dental

चिट्‌ठी लिखने वालों में बुंदेलखंड जिले की एक महिला कप्तान भी शामिल हैं। विभागीय सूत्र बताते हैं कि सत्तारूढ़ पार्टी और विपक्ष की पार्टियां जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव को लेकर अधिक दबाव बना रही हैं। जिससे आगामी चुनाव में दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। अफसर इटावा जिले में भी कप्तानी करने से कतरा रहे हैं।

अमिताभ ठाकुर ये बोले

Bansal Saree

पूर्व आईपीएस व जबरन सेवानिवृत्त किए गए अमिताभ ठाकुर इस तरीके के दबाव को गलत बताते हैं। वह कहते हैं कि अमूमन सत्तारूढ़ पार्टी ऐसा दबाव बनाती हैं। इस तरीके का दबाव बनाकर जिले व अन्य अफसरों पर जो काम कराए जा रहे, वह गलत है। ऐसा चाहे सत्ता पक्ष के नेता करें या फिर विपक्ष के पूर्व के नेता। उन्होंने कहा कि ज्यादातर तो सत्तारूढ़ पार्टी के नेता दबाव बनाते हैं, क्योंकि चुनाव हारने से उनकी जनता में छवि खराब होती है।

उत्तर प्रदेश के पूर्व डीजीपी अरविंद कुमार जैन का कहना है कि जिले में तैनात अफसरों को किसी भी तरीके का दबाव नहीं लेना चाहिए। अगर वह दबाव में रहकर इस तरीके की इच्छा जता रहे हैं और जिले में तैनात रहना नहीं चाहते हैं तो यह सरासर नाकामी है।

उन्होंने यह भी कहा कि अमूमन सत्तारूढ़ पार्टी और अन्य विपक्षी दल के नेता दबाव बनाते ही हैं। ऐसे दबाव में ना आकर जिले में तैनात अफसरों को कानूनी कार्रवाई करते हुए कानून व्यवस्था पर ध्यान देना चाहिए। चुनाव में कौन जीता, कौन हारा है, यह फैसला उनके हाथ में नहीं होता है, ना ही उनको ऐसे दबाव में रहकर किसी भी तरीके का कार्य करना चाहिए।

जिले से मिल रही अफसरों की शिकायत पर गृह विभाग में मंथन किया जा रहा है। बीते 1 सप्ताह में दो मीटिंग की गई है। माना जा रहा है जल्द ही कुछ जिलों के एसपी और डीएम के तबादले किए जाएंगे। इनमें वह जिले भी शामिल हैं, जिन्होंने जिले में ना रहते हुए साइड पोस्टिंग या अन्य जिले में तैनाती की इच्छा जताई है।