वैक्‍सीन का खौफ: समझाने पहुंची विधायक से ग्रामीणों ने कहा, बुखार आएगा और मर जाएंगे

यूपी के इटावा जिले में ग्रामीणों को वैक्‍सीनेशन के प्रति जागरूक करने पहुंची भाजपा विधायक

 | 

12 हजार की आबादी में केवल 40 ने ही कराया टीकाकरण

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। यूपी के इटावा में वैक्‍सीनेशन को लेकर ग्रामीणों में पनपे खौफ को दूर करने के लिए भाजपा विधायक ने गांव का दौरा किया तो लेागों ने उनके कहा कि वैक्‍सीन लगवाने से वे मर जाएंगे। विधायक ग्रामीणों को वैक्‍सीनेशन के प्रति जागरूक करने के लिए गांवों में पहुंची थीं। यहां ग्रामीणों ने विधायक से कहा कि वैक्‍सीन लगवाने से बुखार आएगा और वे मर जाएंगे। जिस पर विधायक ने उन्‍हें खूब समझाया फिर भी अधिकांश ग्रामीण वैक्‍सीन लगवाने को राजी नहीं हुए।

Devi Maa Dental

इटावा में वैक्सीन की जागरुकता के लिए ग्रामीण इलाके में पहुंची सदर विधायक सरिता भदौरिया से ग्रामीणों ने टीका लगवाने से मना कर दिया। ग्रामीणों के अंदर कोरोना की वैक्सीन से डर बैठा हुआ। गांव वालों ने कहा कि वैक्सीन से बुखार आता है और मौत हो जाती है। इटावा के इकदिल क्षेत्र के ग्राम चांदनपुर में भाजपा सदर विधायक सरिता भदौरिया, सीएमओ भगवान दास एसडीएम सदर सिद्धार्थ सिंह, ग्राम प्रधान के साथ गांव में टीके की जागरुकता के लिए गए हुए थे। घर-घर जाकर लोगों से टीका लगवाने के लिए आह्वान किया जा रहा था लेकिन गांव वालों के पास टीका न लगवाने के कई बहाने थे।

एक बुजुर्ग महिला तो अवेयरनेस के लिए आई टीम को देख टंकी के पीछे छुप गई। विधायक के घर पहुंचने पर वह सामने नहीं आ रही थी। कई आवाज लगाने पर जब बुजुर्ग महिला को बाहर बुलाया गया तो उसने हाथ जोड़कर कहा कि हम टीका नहीं लगाएंगे हमें बुखार आ जाएगा और हम मर जाएंगे।

Bansal Saree

गांव में डर का माहौल
महिला के पति गंगा सिंह से इस बार में बात की गई तो उसने बताया कि कोरोना के टीके को लेकर पूरे गांव में डर है। इस वजह से ही उसकी पत्नी छुप गई थी। वहीं, ग्राम चंदनपुर की महिला प्रधान रेखा देवी से बात की गई तो उन्होंने भी बताया कि गांव में वैक्सीन को लेकर बहुत बड़ा भ्रम फैला है।

1200 में से केवल 40 ने लगवायी वैक्‍सीन

ग्राम प्रधान रेखा देवी ने बताया कि 12 सौ की आबादी वाले इस गांव में मात्र 40 लोगों ने ही अभी तक टीका लगवाया है। वहीं, भाजपा सदर विधायक सरिता भदौरिया ने भी माना कि गांव में वैक्सीनेशन को लेकर स्थिति अच्छी नहीं है और इस पर बहुत काम करने की जरूरत है।