गन्‍ना बकाया भुगतान पर अड़े किसान लखनऊ में जमे, किसान नेता वीएम सिंह की अगुवाई में धरना शुरू

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। बकाया गन्‍ना भुगतान को लेकर यूपी में किसानों का गुस्‍सा भड़क गया। शुक्रवार को भी पांच सौ से अधिक किसानों ने लखनऊ के गन्‍ना आयुक्‍त के कार्यालय पर जमकर प्रदर्शन किया। बताया जा रहा है कि पिछले 24 घंटे से किसान गन्‍ना आयुक्‍त कार्यालय में जमे हुए हैं। किसान न्‍ना के 11 हजार करोड़ रूपए बकाया की मांग कर रहे हैं। किसान नेता सरदार वीएम सिंह ने कहा है कि जब तक किसानों के गन्‍ने का भुगतान नहीं हो जाता किसान यहां से नहीं हटेंगे।

Bansal Saree

उन्होंने बताया कि इस साल गन्ना भुगतान को 30 हजार करोड़ रुपए किसानों को देने थे। इसमें अभी भी 11 हजार करोड़ रुपए नहीं दिए जा सके हैं। ऐसे में हम आंदोलन को विवश हुए है। इसके अलावा बढ़ती महंगाई के कारण गन्ना भुगतान किसानों को 450 रुपए प्रति क्विंटल करने कर मांग की गई है। वीएम सिंह ने कहा कि केंद्र और यूपी की सरकार ने चुनाव के पहले काफी बड़े वादे किए थे। लेकिन, सरकार बनने के बाद उन वादों को भूल गई। सरकार ने किसानों की आय को दोगुनी करने का वादा किया था लेकिन सच्चाई यह है कि किसानों को उनका ही हक नहीं मिल रहा है। गन्ना के बकाया का भुगतान सरकार नहीं कर रही है।

किसानों का हक मार रही सरकार

Devi Maa Dental

उन्होंने कहा कि यह किसानों का हक है। उनकी मेहनत की कमाई पर सरकार डाका डाल रही है। इतना ही नहीं इस सरकार के आने के बाद महंगाई चरम पर है। पेट्रोल-डीजल के दाम आसमाना छूने लगे हैं। इनके दामों में बढ़ोत्तरी हो रही है। सरकार इस पर नियंत्रण नहीं कर पा रही है। इसका सीधा असर किसानों पर पड़ रहा है। पूरे देश का पेट भरने वाला किसान भूखे मरने की कगार पर आ गया है।

मांगे नहीं मानी तो सरकार पलटेगी

वीएम सिंह ने कहा कि प्रदेश में साढे तीन करोड़ गन्ना किसानों के वोट हैं। सरकार अगर हमारा हक नहीं देती है तो हम 2022 में योगी की सरकार को पलट देंगे। उन्होंने कहा कि किसानों के साथ हुए छलावे को अब भूलेंगे नहीं।

वीएम सिंह ने कहा कि मोदी सरकार ने बीस लाख करोड़ का राहत पैकेज देने का ऐलान कोरोना को देखते हुए किया था। अगर सरकार इसका एक फीसदी भी किसानों को देती है तो सारे बकाये पूरे हो जाएंगे। उत्तर प्रदेश की भागीदारी करीब तीन लाख करोड़ रुपए से ज्यादा की है, जबकि किसानों को बकाया और ब्याज सहित महज बीस हजार करोड़ रूपए की ही जरूरत है। सरकार को इस पर ध्यान देना चाहिए।