जल्‍द भगोड़ा घोषित हो सकता है हत्‍याकांड में फरार पूर्व सांसद धनंजय सिंह

चारों आरोपियों की संपत्तियां भी कुर्की करने की तैयारी कर रही पुलिस

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। पूर्व सांसद धनंजय सिंह को भगोड़ा घोषित करने कवायद पुलिस ने तेज कर दी है। जल्‍द ही हत्‍या के मामले में फरार धनंजय समेत चार आरोपियों की संपत्ति कुर्क करने के लिए भी पुलिस ने पूरी तैयारी शुरू कर दी है। पुलिस ने इस कार्रवाईयों के लिए अदालत में आज अर्जी दाखिल की है। इन हत्‍यारोपियों की संपत्तियों का ब्‍यौरा भी पुलिस ने पहले से ही तैयार कर लिया है। सोमवार को ही पूर्व सांसद धनंजय सिंह का मुकदमा खारिज करने वाली याचिका को भी अदालत ने रद्द कर दिया। इससे पूर्व सांसद धनंजय की मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

Devi Maa Dental

उधर पुलिस दो दिन पहले ही नामजद किए गए सुनील राठी को वारन्ट बी पर लखनऊ जेल लाएगी। इसके साथ ही पूर्व सांसद धनंजय सिंह को भगोड़ा घोषित करने की तैयारी भी है।

छह जनवरी को कठौता चौराहे पर मऊ के हिस्ट्रीशीटर अजीत सिंह की हत्या कर दी गई थी। मुख्य शूटर गिरधारी को पुलिस ने मुठभेड़ में ढेर कर दिया था। शूटर संदीप बाबा, अंकुर, राजेश तोमर, मुस्तफा, मददगार प्रिंस, रेहान, अखण्ड जेल में बंद है। घटना में घायल शूटर राजेश तोमर ने रिमाण्ड अवधि पर कई खुलासे किए थे जिस पर सुनील राठी का नाम भी इस हत्याकाण्ड में दो दिन पहले बढ़ा दिया गया था। सुनील राठी से पुलिस को कई जानकारियां मिलने की उम्मीद है। इसलिये ही उसे वारन्ट बी पर लखनऊ जेल लाने की तैयारी की जा रही है। उसे पुलिस रिमाण्ड पर लेने के लिये भी अर्जी देगी। 

Bansal Saree

इंस्पेक्टर चन्द्रशेखर सिंह ने बताया कि इस मामले में पूर्व सांसद धनंजय सिंह, मददगार विपुल सिंह, प्रदीप सिंह कबूतरा, कुणाल कुमार, शूटर रवि यादव की तलाश की जा रही है। धनंजय सिंह पांच मार्च को पुराने मामले में जमानत कटवा कर प्रयागराज कोर्ट में हाजिर हो गए थे। 25 दिन बाद इसी मामले में धनंजय सिंह फिर जमानत पर बाहर आ गए। अब वह फिर पुलिस की रडार पर है। इन आरोपियों की सम्पत्ति कुर्क करने की अनुमति मिलते ही पुलिस डुगडुगी पिटवायेगी।

सबसे पहले 21 जनवरी को गिरफ्तार शूटर संदीप सिंह उर्फ बाबा ने इस हत्याकाण्ड का पूरी तरह से खुलासा किया था। उस समय उसने ही एक शूटर रवि यादव का नाम लिया था। पर, इसके बाद पकड़े गये हर शूटर व मददगार ने रवि यादव का नाम नहीं लिया। अंकुर, राजेश तोमर व मुस्तफा सभी ने रवि यादव के नाम से अनभिज्ञता जताई। अब पुलिस का मानना है कि इस शूटर का नाम रवि यादव नहीं बल्कि कुछ और है। संदीप ने उसका नाम फर्जी लिया था। कुछ मुखबिरों ने इस शूटर का नाम सोनू बताया है। पर, विभूतिखंड पुलिस अभी इस बारे में पड़ताल कर रही है। इसी सिलसिले में एक टीम फिर दिल्ली भेजी गई है।