पंचायत चुनावों के दौरान कई जिलों में उपद्रव, पुलिस पार्टी पर पथराव, मतपेटी लूटने की भी कोशिश

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। आज पंचायत चुनावों के चौथे और अंतिम चरण में कई जिलों में उपद्रवियों ने चुनाव प्रक्रिया को बाधित करने की भरपूर कोशिश की। वोटिंग के दौरान कई जिलों में उपद्रवियों ने मतपेटी लूटने का भी प्रयास किया। इस दौरान पुलिस से उपद्रवियों की भिड़ंत भी हुयी। इस दौरान जमकर पथराव भी हुआ। वोटिंग के दौरान सीतापुर, मथुरा, अलीगढ़, बहराइच में मारपीट, पथराव और फायरिंग का मामला सामने आया है। कई लोग घायल हुए हैं। इस दौरान सीतापुर में मतपेटी में पानी डाल दिया गया तो अलीगढ़ में मतपेटिका को लूटने का प्रयास किया गया। फिलहाल पुलिस ने उपद्रवियों को चिन्हित कर कार्रवाई शुरू की है। इस दौरान पुलिस ने बल प्रयोग कर हालात पर काबू पाया है।

Devi Maa Dental

सीतापुर के इमलिया सुल्तानपुर थाना क्षेत्र के ग्राम सभा हथौरी शेखापुर में फर्जी वोटिंग के दौरान दो पक्षों में भिड़ंत हो गयी। विवाद के दौरान वहां पथराव और गोलियां भी चली। जानकारी के अनुसार हथौड़ी निवासी जय प्रकाश सिंह उर्फ मिंटू जोकि प्रधान पद पर थे। उन्होंने अपना प्रत्याशी प्रधान पद के लिए चुनाव मैदान में उतारा था। दूसरे पक्ष का आरोप है कि मिंटू सिंह ने अपने प्रत्याशी को जिताने के लिए नाजायज वोट डलवाए। दूसरे पक्ष का यह भी आरोप है कि बीएलओ से मिलकर मिंटू सिंह ने दूसरे पक्ष के लगभग डेढ़ सौ वोट कटवा दिए। जिसका विरोध करने पर मिंटू सिंह ने मौके पर समर्थकों से पत्थरबाजी करवाई और गोलियां भी चलवाई।

घटना के बाद मौके पर पहुंचे ASP राजीव दीक्षित, CO अभिषेक प्रताप, SDM महोली और ADM ने हालात पर काबू पाया। पुलिस का कहना है कि दंगा-फसाद करवाने वाले लोगों को अपनी गिरफ्त में लेकर के कानूनी कार्रवाई करने का जनता को आश्वासन दिया है। वहीं, तालगांव के समैसा गांव में लोगों ने मतपेटी लूटने का प्रयास किया और जब कामयाब नहीं हुए तो उसमें पानी डाल दिया।

Bansal Saree

वहीं, कोतवाली देहात क्षेत्र के शाह महोली इलाके के ननसोही मतदान केंद्र वोटिंग के दौरान जमकर हंगामा हुआ। यहां मतदान केंद्र पर मौजूद महिलाओं ने वोटर लिस्ट में नाम न होने से नाराज महिलाओं ने जमकर हंगामा काटा। मतदान केंद्र पर हंगामे की सूचना मिलते ही पुलिस फोर्स मौके पर पहुंच गई और महिलाओं को शांत कराया। लेकिन महिलाएं उग्र हो गईं। जिस पर पुलिस ने उग्र भीड़ को काबू पाने के लिए महिलाओं पर लाठी चार्ज कर दिया। इंस्पेक्टर कोतवाली देहात ओपी तिवारी ने महिलाओं पर लाठियां बरसाई। जिसके बाद भीड़ वहां से भाग गई। आधे घंटे के हंगामे के बाद मतदान पुनः शुरू कराया गया।

अलीगढ़: मतपेटी लूटने का प्रयास, वाहनों में तोड़फोड़
थाना अकराबाद इलाके के आलमपुर गांव में उस समय अफरातफरी का माहौल पैदा हो गया, जब कुछ लोगों द्वारा मतपेटियों को लूटकर भागने का प्रयास किया गया। जिस पर पुलिस ने उन्हें रोकने का प्रयास किया तो पुलिस पर पथराव कर दिया गया। इतना ही नहीं हमलावरों ने पुलिस कर्मियों को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा। उपद्रवियों द्वारा पुलिस के वाहनों में भी जमकर तोड़फोड़ की गई।

बताया जा रहा है कि फर्जी मतदान को लेकर ग्रामीण भड़क उठे और उन्होंने प्रशासन के साथ बदसलूकी करना शुरू कर दिया। इतना ही नहीं पुलिस प्रशासन द्वारा ग्रामीणों को समझाने का काफी प्रयास किया गया। लेकिन वह नहीं मांगने और वह मतपेटिकाओं को लूट कर भागने लगे। जिसके बाद पुलिस ने उन्हें खेतों में दौड़ करने का प्रयास किया। लेकिन उन्होंने पुलिस को पीछे आता हुआ देख उन पर पथराव कर दिया। फोर्स के पहुंचने के बाद मामला शांत हुआ है।

मथुरा: मारपीट और फायरिंग में 10 लोग घायल
मथुरा के थाना बरसाना क्षेत्र के गांव नाहरा में फर्जी मतदान की सूचना पर दो पक्ष आपस में भिड़ गए। मलखान सिंह और सियाराम पक्ष में हुई भिड़ंत ने कुछ देर में गम्भीर रूप ले लिया और फिर दोनों तरफ से लाठी डंडे चले। फायरिंग भी हुई। इस संघर्ष के कारण कुछ देर के लिए मतदान प्रक्रिया भी प्रभावित हुई। वहीं इस झगड़े के कारण करीब 10 लोग घायल हो गए। जिन्हें इलाज के लिए अस्पताल भेजवाया गया। गांव में चुनाव के दौरान हिंसा की सूचना पर SSP गौरव ग्रोवर, जिलाधिकारी नवनीत चहल फोर्स के साथ गांव पहुंच गए और बवाल कराने वाले सियाराम, मलखान सिंह सहित 12 लोगों को हिरासत में ले लिया। फिलहाल मौके पर भारी पुलिस बल तैनात है।

बहराइच: दो प्रत्याशियों के समर्थक भिड़े, पथराव में 14 घायल
खैरीघाट थाना क्षेत्र में संकल्पा मतदान केंद्र में सुबह से मतदान चल रहा था। लोग वोट डालने के लिए कतार में खड़े होकर अपनी बारी का इंतजार कर रहे थे। इसी दौरान अचानक फर्जी मतदान होने की बात उठी और दो प्रत्याशियों के समर्थकों के बीच कहासुनी शुरू हो गई। धक्का-मुक्की होते हुए दोनों पक्ष मतदान केंद्र के बाहर आ गए और दोनों पक्षों में मारपीट होने लगी। इसी दौरान समर्थकों ने पथराव शुरू कर दिया। जब तक लोग कुछ समझ पाते, तब तक दोनों तरफ से जमकर पथराव होता रहा। दोनों पक्षों में लगभग 14 लोग घायल हो गए। बढ़ते पथराव की सूचना पर पहुंची पुलिस ने खदेड़ा तो सब भाग खड़े हुए। खैरीघाट थानाध्यक्ष विमलेश सिंह ने बताया कि लाइन में खड़े होने को लेकर विवाद हुआ था। उसी में कुछ लोगों ने पत्थर चला दिया होगा। पुलिस फोर्स पहुंचने पर सब भाग खड़े हुए। इस प्रकरण में कोई केस नहीं दर्ज हुआ है।