कृष्‍ण नगरी मथुरा वृन्‍दावन में मन्दिरों के पट खुलते ही उमड़े श्रद्धालु, खुशी का किया इजहार

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। भगवान कृष्‍ण की नगरी मथुरा वृन्‍दावन में मन्दिरों के पट आज से श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए गए हैं। बांके बिहारी मन्दिर और श्री कृष्‍ण जन्‍म भूमि के पट खुलते ही भक्‍तों की भीड़ भगवान के दर्शनों को टूट पड़ी। इस दौरान कई भक्‍त अपने घरों में स्‍थापित भगवान को भी मन्दिरों में स्‍थापित करने के लिए लेकर पहुंचे। भक्तों के चेहरे पर खुशी और सुकून नजर आया। कोविड प्रोटोकॉल के तहत एक साथ 5 लोगों को मंदिरों में प्रवेश दिया जा रहा है।

Devi Maa Dental

वृंदावन स्थित बांके बिहारी मंदिर के पट सुबह 8 बजे खुले। मंदिर खुलने से पहले ही अपने आराध्य के दर्शनों के लिए लंबी लाइन लग गई थी। भक्त कोरोना नियमों का पालन कर रहे थे। सभी ने मास्क लगा रखा था, तो सोशल डिस्टेंसिंग भी बनाए रखा। मंदिर प्रबंधन ने एक समय में मंदिर के अंदर 5 लोगों को ही प्रवेश कराया। यहां मंदिर में प्रवेश से पहले सेनिटाइजर टनल भक्तों को निकाला जा रहा था। भक्त कोरोना के डर के बीच भगवान के दर्शन को आतुर नजर आए। लिहाजा उन्होंने सभी नियमों का पालन बखूबी किया।

ललितपुर से आए श्रद्धालु मोहित पांडे बताते हैं कि वे पिछले हफ्ते मथुरा आए थे। तब से वे दर्शनों की अभिलाषा लिए यहां रुके हुए थे। पता चला था कि 8 जून को धर्मस्थल खुलेंगे तो मन उदास हो गया था। लेकिन मंगलवार को दर्शन खुल गए तो मन को संतोष मिला है। पत्नी प्रियंका पांडे भी मोहित के साथ थीं। उन्होंने कहा, दर्शन कर बहुत अच्छा लगा है। कोरोना से डर था लेकिन दर्शन करते ही डर दूर हो गया।

Bansal Saree

आगरा से आईं नीलम सारस्वत कहती हैं कि लंबा इंतजार खत्म हुआ। कोरोना से डर के सवाल पर कहती हैं कि अब कोरोना खत्म हो रहा है। यहां हम भक्त नहीं बांके बिहारीजी के प्रेमी बन कर आए है।

शाम 7 बजे तक मन्दिरों में प्रवेश

मंदिर के सेवायत बछु गोस्वामी और अरविंद गोस्वामी बताते हैं कि सुबह 11 बजे तक करीब 1 घंटे में 200 लोग दर्शन कर चुके हैं। एक बार में 5-5 व्यक्तियों को प्रवेश कराया जा रहा है। मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग के बिना किसी को प्रवेश नहीं मिलेगा। मंदिर में दर्शन सुबह 8 से 11 व शाम को साढ़े 5 से 7 बजे तक होंगे।

जगद्गुरु कृपालु महाराज द्वारा निर्मित प्रेम मंदिर के पट भी श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए गए हैं। कोविड गाइड लाइन के अनुसार मंदिर के पट खोले गए। लेकिन यहां श्रद्धालु नजर नहीं आए। मंदिर प्रबंधन से जुड़े पदाधिकारी अजय त्रिपाठी ने बताया कि सुबह से अभी तक मुश्किल से 50 श्रद्धालु ही दर्शन करके गए हैं। मंदिर में मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का प्रयोग कराया जा रहा है।