सीएम योगी नाराज- कहा रेफरल लेटर की आड़ लेकर मरीजों को परेशान ना करें डाक्‍टर, लापरवाही पर होगी कार्रवाई

मुख्‍यमंत्री ने कहा किसी भी निजी या सरकारी अस्‍पताल में भर्ती होने के लिए किसी रेफरल लेटर की जरूरत नहीं

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। रेफर लेटर की आड़ में अस्‍पतालों में मरीजों को भर्ती करने में लापरवाही करने वालों पर सीएम योगी ने कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने शनिवार को कहा कि रेफर लेटर की आड़ लेकर डाक्‍टर मरीजों को अस्‍पतालों में भर्ती करने में लापरवाही ना बरतें। सीएम ने कहा कि शिकायत मिलने पर ऐसे डाक्‍टरों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। सीएम योगी ने स्‍पष्‍ट किया कि किसी भी निजी या सरकारी अस्‍पताल में मरीज को भर्ती होने के लिए किसी रेफरल लेटर की जरूरत नहीं होती है। योगी ने कहा कि यदि कोई अफसर इसकी आड़ लेकर मरीजों को अस्‍पतालों में भर्ती करने में आनाकानी करता है तो उस पर सख्‍त कार्रवाई की जाएगी।

Devi Maa Dental

योगी ने कहा कि कोई भी मरीज सुविधानुसार किसी भी सरकारी या निजी अस्पताल में इलाज के लिए बेड की उपलब्धता के आधार पर भर्ती हो सकता है। बेड खाली होने पर कोई भी निजी या सरकारी कोविड अस्पताल मरीज को भर्ती करने से इनकार नहीं कर सकता है। उन्होंने शासन के वरिष्ठ अधिकारियों को इस व्यवस्था को प्रभावी ढंग से लागू करने का निर्देश दिया।

शुक्रवार को कोविड-19 की स्थिति की वर्चुअल माध्यम से समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सभी कोविड अस्पतालों में बेड की उपलब्धता के बारे में इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर के पास ताजा जानकारी होनी चाहिए।

Bansal Saree

सीएन योगी ने सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में प्राथमिकता के आधार पर ऑक्सीजन कंसंट्रेटर उपलब्ध कराने के लिए कहा। प्रदेश के सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में 20-20 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर उपलब्ध कराने की व्यवस्था कराने का निर्देश दिया।

कहा कि केंद्र सरकार ने 1500 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर उपलब्ध कराएं हैं जिन्हें जिलों में भेजा जाए। प्रदेश के हर जिले में दो सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र को कोविड डेडीकेटेड अस्पताल के रूप में तैयार करने का निर्देश दिया। उन्होंने जिला प्रशासन को रेमडेसिविर इंजेक्शन की मांग आपूर्ति और खपत का पूरा विवरण रखने का निर्देश दिया। विशेषज्ञ चिकित्सकों का पैनल गठित कर लोगों को यह जानकारी देने के लिए कहा कि किसे रेमडेसिविर की जरूरत है और किन मरीजों को ऑक्सीजन की।

परिजनों को मिले मरीजों की जानकारी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मरीजों के परिवारीजनों को हर दिन उनके मरीज के स्वास्थ्य की जानकारी दी जाए। सभी सरकारी और निजी अस्पतालों में यह व्यवस्था लागू की जाए। मुख्य सचिव कार्यालय इस व्यवस्था की समीक्षा करे।

उन्होंने मंडलायुक्तों को निर्देश दिया कि वे अपने मंडल के सभी जिलों में ऑक्सीजन आपूर्ति की गहन निगरानी करें। ऑक्सीजन के संतुलित उपयोग के लिए ऑक्सीजन ऑडिट पर भी उन्होंने जोर दिया। लोगों को अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के बारे में आयुष विधियों की जानकारी देने के लिए उन्होंने आयुष कवच ऐप का व्यापक प्रचार-प्रसार करने के लिए कहा।