यूपी आते ही खुलने लगीं मुख्तार के गुनाहों की बंद फाइलें, 21 साल पुराने मामले में विशेष अदालत में 12 को होंगे हाजिर

न्यूज टुडे नेटवर्क। बाहुबली विधायक माफिया डान मुख्तार अंसारी के यूपी वापस आते ही उसके मुकदमों की फेहरिस्त खुलनी शुरू हो गयी है। यूपी के बांदा जेल पहुंचते ही सुरक्षा कड़ी कर दी गयी है। लखनऊ की विशेष अदालत ने मुख्तार को 21 साल पुराने मामले में 12 अप्रैल को तलब किया है। अदालत ने
 | 
यूपी आते ही खुलने लगीं मुख्तार के गुनाहों की बंद फाइलें, 21 साल पुराने मामले में विशेष अदालत में 12 को होंगे हाजिर

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। बाहुबली विधायक माफिया डान मुख्‍तार अंसारी के यूपी वापस आते ही उसके मुकदमों की फेहरिस्‍त  खुलनी शुरू हो गयी है। यूपी के बांदा जेल पहुंचते ही सुरक्षा कड़ी कर दी गयी है। लखनऊ की विशेष अदालत ने मुख्‍तार को 21 साल पुराने मामले में 12 अप्रैल को तलब किया है। अदालत ने मुख्‍तार को व्‍यक्तिगत रूप से तलब किया है। लखनऊ MP/MLA की विशेष अदालत ने 21 साल पहले कारापाल व उपकारापाल पर हमला, जेल में पथराव व जानमाल की धमकी देने के एक मामले में मुख्तार अंसारी को तलब किया गया है।

Devi Maa Dental

इस मामले में मुख्तार के अलावा युसुफ चिश्ती, आलम, कल्लू पंडित व लालजी यादव पर आरोप तय होना है। इनमें युसुफ चिश्ती व आलम न्यायिक हिरासत में जेल में हैं। जबकि कल्लू पंडित व लालजी यादव जमानत पर रिहा हैं। लेकिन मुख्तार अंसारी की अनुपस्थिति से आरोप तय नहीं हो पा रहा था।

विशेष जज पीके राय ने पिछली कई तारीखों पर मुख्तार अंसारी को पेश कराने के संदर्भ में यूपी पुलिस के संबधित आला अफसरों व जिला कारागार रुपनगर, रोपड, पंजाब के वरिष्ठ अधीक्षक को भी निर्देश दिया था। लेकिन मुख्तार पेश नहीं हुआ था।

Bansal Saree

इस मामले में किया तलब

दरअसल, 3 अप्रैल 2000 को लखनऊ के कारापाल एसएन द्विवेदी ने थाना आलमबाग में दर्ज कराई थी। रिपोर्ट के मुताबिक पेशी से वापस आए बंदियों को जेल में दाखिल कराया जा रहा था। इनमें से एक बंदी चांद को विधायक मुख्तार अंसारी के साथ के लोग बुरी तरीके से मारने लगे। आवाज सुनकर कारापाल एसएन द्विवेदी व उपकारापाल बैजनाथ राम चौरसिया और कुछ अन्य बंदीरक्षक उसे बचाने का प्रयास करने लगे। इस पर उन्होंने इन दोनों जेल अधिकारियों व प्रधान बंदीरक्षक स्वामी दयाल अवस्थी पर हमला बोल दिया। किसी तरह अलार्म बजाकर स्थिति को नियंत्रित किया गया।

अलार्म बजने पर यह सभी भागने लगे। साथ ही इन जेल अधिकारियों पर पथराव करते हुए जानमाल की धमकी भी देने लगे। इस मामले में युसुफ चिश्ती, आलम, कल्लू पंडित व लालजी यादव आदि के साथ ही मुख्तार अंसारी को भी नामजद किया गया था। विवेचना के बाद इन सबके खिलाफ IPC की धारा 147, 336, 353 व 508 में आरोप पत्र दाखिल किया गया।