चंदौली: पुलिस को देख कर्मनाशा नदी में कूदे पशु तस्कर लेकिन पत्थर से टकराए, तीन की मौत

न्यूज टुडे नेटवर्क। यूपी के चंदौली जिले में पुलिस को देखकर तीन पशु तस्कर पुलिस से बचने को कर्मनाशा नदी में कूद गए। नदी में कूदने पर पत्थर से टकराने के बाद तीनों की मौत हो गयी। नदी में कूदने पर तीनों पशु तस्कर नदी के पानी में गिरने की बजाए सिल्ट और पत्थरों पर
 | 
चंदौली: पुलिस को देख कर्मनाशा नदी में कूदे पशु तस्कर लेकिन पत्थर से टकराए, तीन की मौत

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। यूपी के चंदौली जिले में पुलिस को देखकर तीन पशु तस्‍कर पुलिस से बचने को कर्मनाशा नदी में कूद गए। नदी में कूदने पर पत्‍थर से टकराने के बाद तीनों की मौत हो गयी। नदी में कूदने पर तीनों पशु तस्‍कर नदी के पानी में गिरने की बजाए सिल्‍ट और पत्‍थरों पर गिर गए जिससे टकराने से तीनों की मौत हो गयी। चंदौली के चकिया कोतवाली इलाके में चकिया इलिया मार्ग की यह घटना है। यहां मंगरौर कर्मनाशा नदी का पुल  मौजूद है। घअना स्‍थल से बिना नंबर की पिकअप जीप बरामद की गयी है। पिकअप से आठ गौवंशीय पशुओं केा बरामद किया गया है। पुलिस अधीक्षक, IG वाराणसी रेंज ने फोर्स के साथ मौके पर पहुंचकर पड़ताल की है।

Devi Maa Dental

IG वाराणसी जोन एसके भगत ने बताया कि किन परिस्थितियाें में तीनों तस्कर पुल से नदी में कूदे हैं, इसकी जांच चल रही है। जानकारी के अनुसार पुलिस टीम को देखकर तीनों लोग नदी में कूदे। इसमें दो तस्कर पत्थरों पर गिरे और उनकी मौत हो गई। एक आरोपी आधा पानी और आधा जमीन पर गिरा पड़ा मिला। वे अस्पताल में ले जाकर भर्ती करवाया गया। उसकी भी मौत हो गई। मौके से एक पिकअप बरामद हुई, जो जौनपुर के शाहगंज की है। मामले की जांच चल रही है।

दो मृतक चचेरे भाई

पुलिस अधीक्षक अमित कुमार ने बताया कि तीनों मृतक गोवंश तस्कर थे। मृतकों की शिनाख्त चकिया थाना क्षेत्र के घुरहूपुर निवासी बाढ़ू (25 साल) और चंदेश (19 साल) और दीपक (28 साल) के रूप में हुई है। बाढ़ू व चंदेश चचेरे भाई हैं। दीपक कहां का रहने वाला था, इसका पता लगाया जा रहा है।

Bansal Saree

मृतकों के परिजनों ने बताया कि बाढ़ू व चंदेश गोवंश तस्करी में काफी दिनों से लिप्त थे। तीनों शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। गंभीर चोट के कारण उनकी मौत हुई है। पुलिस हर बिंदुओं पर जांच कर रही है।