ब्‍लैक फंगस भी महामारी की दूसरी किस्‍म, राज्‍य सरकार ने माना कोरोना की तरह है खतरा

आज शाम तक अधिसूचना जारी करके ब्‍लैक फंगस को भी महामारी घोषित किया जाएगा

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। कोरोना से ज्‍यादा अब ब्‍लैक फंगस का खतरा गहरा गया है। कोरोना महामारी की तरह ही नए वैरिएंट ब्‍लैक फंगस को भी महामारी ही माना जा रहा है। आज शुक्रवार शाम तक यूपी में भी ब्‍लैक फंगस को महामारी घोषित किए जाने की अधिसूचना जारी हो जाएगी। हरियाणा और राजस्थान के बाद चार और राज्य तेलंगाना, पंजाब,उड़ीसा व तमिलनाडु ने भी महामारी घोषित किये जाने अधिसूचना जारी कर दी है। यूपी में अब तक ब्लैक फंगस के 170 से ज्यादा केस सामने आ चुके हैं। इस बीमारी से अब तक 25 मरीजों की मौत हो चुकी है। ब्लैक फंगस के मरीजों का इलाज भी अब भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद के निर्देशों के अनुसार होगा।

Devi Maa Dental

उत्तर प्रदेश सरकार के स्वास्थ्य महकमे के सलाहकार व किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी लखनऊ में तैनात लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) डॉ. प्रोफेसर बीएनबीएम प्रसाद बताते हैं कि ब्लैक फंगस जैसी बीमारी कई साल पुरानी है। इस बीमारी से बचने का सबसे आसान और कारगर तरीका इतना है कि लोगों को अपनी इम्यूनिटी लेवल ठीक रखना होगा। 30 साल तक देश के विभिन्न ने बड़े उच्च मेडिकल संस्थानों की जिम्मेदारी निभाने वाले डॉक्टर बीएनबीएम प्रसाद का मानना है कि ब्लैक फंगस जैसी बीमारी नमी कम होने पर तेजी से फैलती है। यह नाक के माध्यम से शरीर में प्रवेश करती है। कोरोना संक्रमित हो चुके लोगों को ब्लैक फंगस का ज्यादा जोखिम होता है।