बीजेपी सांसद ने कहा- कोरोना कंट्रोल से बाहर है आयोग पंचायत चुनाव रोके

लखनऊ में एक दिन में निकले हैं पांच हजार कोरोना केस

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। भाजपा के सांसद कौशल किशोर ने चुनाव आयोग से कोरोना संक्रमण के बढ़ते रूप को देखते हुए चुनावों को रोकने की मांग की है। सांसद कौशल किशोर ने चुनाव आयोग को किए ट्वीट में ये बात कही है। गौरतलब है कि राज्‍य में पंचायत चुनावों के दौर के बीच कोरोना संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है। लखनऊ में ही एक दिन में पांच हजार के करीब केस दर्ज हो चुके हैं।

Devi Maa Dental

कौशल किशोर ने ट्वीट करते हुए लिखा कि निर्वाचन आयोग से मेरी अपील है कि लखनऊ में कोरोना कंट्रोल से बाहर है। लखनऊ में कई हजार परिवार करोना की चपेट में बुरी तरह बर्बाद हो रहे हैं। श्मशान घाटों पर लाशों के ढेर लगे हुए हैं।

उन्होंने कहा कि चुनाव जरूरी नहीं है लेकिन लोगों की जान बचाना जरूरी है। इसलिए निर्वाचन आयोग को तत्काल संज्ञान में लेकर पंचायत के चुनाव को लखनऊ में निर्धारित मतदान की तिथि से एक महीना आगे बढ़ा देना चाहिए। जान बचाना जरूरी है चुनाव कराना जरूरी नहीं है।

Bansal Saree

निर्वाचन आयोग से मेरी अपील है लखनऊ में covid कंट्रोल से बाहर है, लखनऊ में कई हजार परिवार करोना की चपेट में बुरी तरह बर्बाद हो रहे हैं, श्मशान घाटों पर लाशों के ढेर लगे हुए हैं। चुनाव जरूरी नहीं है लेकिन लोगों की जान बचाना जरूरी है।

सात जिलों मेडिकल कालेजों संस्‍थानों में ओपीडी बंद

योगी सरकार ने प्रदेश में तेजी से बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए सात जिलों के सरकारी मेडिकल कॉलेजों एवं चिकित्सा संस्थानों में ओपीडी सेवाएं बंद करने का निर्णय किया है। इसके तहत अत्यंत जरूरी सर्जरी को छोड़कर शेष सभी प्रकार के आपरेशन टालने के निर्देश दिए गए हैं। हालांकि असाध्य रोगियों की समस्याओं को ध्यान में रखकर सरकार ने ऐसे रोगियों के इलाज की सुविधा पहले की तरह ही जारी रखने के निर्देश दिए हैं। साथ ही इमरजेंसी व ट्रामा की सुविधाओं को भी सातों दिन 24 घंटे चालू रखने को भी कहा है।

विशेष सचिव (चिकित्सा शिक्षा) की ओर से आदेश जारी कर दिए गए। इसके तहत प्रदेश के सात जिले मसलन लखनऊ, प्रयागराज, कानपुर, गोरखपुर, आगरा, झांसी व मेरठ के सरकारी मेडिकल कालेजों में ओपीडी सेवाएं बंद करने का निर्णय लिया गया है। साथ ही इन मेडिकल कालेजों में ओपीडी के साथ-साथ आइपीडी की सेवाएं भी सीमित कर दी गई हैं।

आदेश के मुताबिक यहां पर अत्यंत जरूरी सर्जरी के अलावा अन्य आपरेशन को जरूरत के अनुसार आगे टालने के निर्देश दिए गए हैं। यहां कोरोना महामारी की जांच के लिए ओपीडी, नियोनेटल सेवाएं व एंटीनेटल क्लीनिक, कैंसर मरीजों को कीमोथैरेपी व रेडियोथैरेपी सेवाएं तथा किडनी के मरीजों की डायलिसिस की सुविधाएं पूर्व की भांति अनवरत रूप से दी जाती रहेंगी।

दो हफ़्ते में सात गुना केस

प्रदेश में कोरोना संक्रमण की स्थिति कितनी तेजी से भयावह होती जा रही है इसका पता इसी से लगता है कि मात्र 13 दिनों में सूबे में सात गुना नए केस बढ़ गए। इस दौरान एक दिन में कोरोना से मरने वालों की संख्या भी नौ गुनी से अधिक बढ़ गई जबकि कुल सक्रिय केसों की संख्या भी इस अवधि में करीब आठ गुना बढ़ गई। पहली अप्रैल को प्रदेश भर में 2600 नए केस मिले थे और तब 09 लोगों की कोरोना से मौत हो गई थी

उस दिन प्रदेश में कुल सक्रिय केसों की संख्या 11918 थी। दूसरी तरफ आज 13 अप्रैल को 18021 नए केस मिले हैं जबकि एक दिन में मरने वालों की संख्या 85 पहुंच गई है। वहीं कुल सक्रिय कसों की संख्या 95980 हो गई है। दिन प्रतिदिन खराब होती स्थिति से निपटने के लिए सरकार लगातार नए-नए उठा रही है लेकिन वह सब नाकाफी साबित हो रहे हैं।

स्वास्थ्य सचिव अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि लखनऊ, प्रयागराज, कानपुर तथा वाराणसी में कोविड संक्रमण को देखते हुए अधिक सावधानी बरतने की आवश्यकता है। ये चारों जिले इस समय संवेदनशील हैं। लिहाजा मास्क का प्रयोग करें। यह समाज के प्रति जिम्मेदारी व सामाजिक उत्तरदायित्व का पालन है। उन्होंने बताया कि मास्क सही तरीके से पहने, जब भी किसी से मिले या किसी से बात करे तो मास्क जरूर पहने रहे। यह भी बताया कि संक्रमण अभी समाप्त नहीं हुआ है इसलिए विशेष सावधानी बरतने की आवश्यकता है।