प्रयागराज पहुंचे सीएम के काफिले में घुसी भाजपा विधायक की कार, एडीजी ने किया चालान

कोविड संक्रमण के हालातों की समीक्षा करने पहुंचे थे सीएम

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। प्रदेश में कोरोना के बढ़ते मामलों के मद्देनजर सीएम योगी आदित्‍यनाथ शुक्रवार को प्रयागराज के दौरे पर पहुंचे। यहां सीएम योगी ने अफसरों से कोरोना संक्रमण से निपटने के उपायों पर चर्चा की और जिले के हालातों का जायजा लिया। दोपहर 12 बजे करीब सीएम योगी प्रयागराज पहुंचे। यहां सीएम के काफिले के बीच भाजपा विधायक की गाड़ी घुसने पर विधायक की गाड़ी का चालान एडीजी ने कर दिया। इस दौरान मुख्यमंत्री की फ्लीट में कौशांबी के विधायक संजय गुप्ता की गाड़ी घुस गई। इससे योगी आदित्यनाथ की सुरक्षा में तैनात अधिकारियों में हड़कंप मच गया। ADG प्रेम प्रकाश ने भाजपा विधायक की गाड़ी का चालान कर दिया। जिस समय गाड़ी सीएम के फ्लीट में घुसी उस समय विधायक गाड़ी से उतरकर सभागार में चले गए थे।

Devi Maa Dental

गाइडलाइन का पालन हो दुर्व्‍यवहार न करें
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मेला प्राधिकरण के कार्यालय में कोविड-19 के नोडल अधिकारी और अन्य डाक्टरों के साथ बैठक की और कोविड से बचाव के इंतजामों और अस्पताल में कोविड मरीजों की सुविधा के लिए किए गए कार्यों की समीक्षा की। योगी ने कहा कि मास्क पहनने, फिजिकल डिस्टेंस का पालन करने और सैनिटाइज करने के लिए लोगों को प्रेरित करें। लेकिन, उनके साथ कोई दुर्व्‍यवहार न किया जाए। कांटैक्ट ट्रेसिंग का भी दायरा बढ़ाया जाए। उन्होंने कहा कि बचाव और इलाज के लिए जो भी संभव हो, सभी तरह के प्रयास करें। इसमें किसी भी तरह की लापरवाही नहीं होनी चाहिए।

DM ने स्थिति से अवगत कराया
DM भानुचंद्र गोस्वामी ने जिले में संक्रमण की स्थिति से अवगत कराया। बताया कि पिछले तीन दिन से कोरोना के मामले एक हजार के पार चल रहे हैं। कोरोना की दूसरी से ज्यादा लोग संक्रमित हो रहे हैं। लेकिन, मौत का आंकड़ा कम है। कोशिश है कि इससे लोगों की मौत न हो। इसके लिए अस्पतालों की व्यवस्थाएं बढ़ाई जा रही हैं। लोगों को कोरोना से बचाव के तरीके अपनाने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। रात का कर्फ्यू भी लगा दिया गया है।

Bansal Saree

कोविड वार्ड का निरीक्षण किया
योगी आदित्‍यनाथ ने इसके बाद स्वरूपरानी नेहरु अस्पताल (SRN) के कोविड वार्ड का निरीक्षण किया। इस दौरान कहा कि कोरोना के मरीजों के डाक्टर और मरीज शालीनता से पेश आए। ऐसा कोई काम न करें, उनको परेशानी हो। जो भी गंभीर मरीज हैं, उनको भर्ती करें और पूरा इलाज करें।