Migrant Labour: लॉकडाउन में फंसे मजदूरों के लिए खुशखबरी, सरकार ने दी निजी वाहन की अनुमति

लगभग दो महीने तक लगातार लॉकडाउन (lockdown) जारी रहने के कारण मजदूर (labours) पैदल ही अपने घरों की तरफ निकल पड़े हैं। जिसे देखते हुए शासन ने लॉकडाउन में फंसे मजदूरों को उनके घर पहुंचाने के लिए परिवहन विभाग (transport department) को निजी वाहनों का प्रयोग करने की भी अनुमति दे दी है। लेकिन निजी
 | 
Migrant Labour: लॉकडाउन में फंसे मजदूरों के लिए खुशखबरी, सरकार ने दी निजी वाहन की अनुमति

लगभग दो महीने तक लगातार लॉकडाउन (lockdown) जारी रहने के कारण मजदूर (labours) पैदल ही अपने घरों की तरफ निकल पड़े हैं। जिसे देखते हुए शासन ने लॉकडाउन में फंसे मजदूरों को उनके घर पहुंचाने के लिए परिवहन विभाग (transport department) को निजी वाहनों का प्रयोग करने की भी अनुमति दे दी है। लेकिन निजी वाहनों का किराया भुगतान होगा।
Migrant Labour: लॉकडाउन में फंसे मजदूरों के लिए खुशखबरी, सरकार ने दी निजी वाहन की अनुमतिअपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने पत्र के माध्यम से परिवहन निगम को बताया कि यूपीएसआरटीसी (UPSRTC) ने लगभग सभी विभागीय बसों के साथ-साथ अनुबंधित बसों का भी पूर्णत: उपयोग कर लिया है। इसलिए हाल ही में मुख्यमंत्री के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग (video conferencing) में जिला प्रशासन एवं पुलिस अधिकारियों ने अतिरिक्त वाहनों की मांग की थी।

Devi Maa Dental

उन्होंने कहा है कि हर जिले में मजदूरों को लाने-ले जाने के लिए कम से कम 200 से अधिक निजी वाहनों का प्रबंध किया जाए। शासनादेश के अनुसार इन वाहनों के किराए का भुगतान राजस्व विभाग से किया जाए। साथ ही इन निजी वाहनों में भी चालकों व परिचालकों को मास्क (mask), हैंड ग्लब्स (hand gloves) और सेनेटाइजर (sanitizer) की व्यवस्था कराई जाए।