सुभाषनगर, पटाखा बाजार पर घमासान, आरपीएफ ने खदेड़ा, फिर डीएम की परमीशन पर लगीं आतिशबाजी की दुकानें

बरेली,न्यूज टुडे नेटवर्क। बरेली के सुभाषनगर में रेलवे मैदान पर पटाखा बाजार लगने को लेकर बखेड़ा खड़ा हो गया। अआरपीएफ ने आतिशबाजी की दुकानें लगा रहे व्यापारियों को खदेड़ा तो व्यापारी डीएम के पास परमीशन लेकर पहुंच गए। बाद में प्रशासन के हस्तक्षेप के बाद वहां बाजार लगने देने की बात पर आरपीएफ भी राजी
 | 
सुभाषनगर, पटाखा बाजार पर  घमासान, आरपीएफ ने खदेड़ा, फिर डीएम की परमीशन पर लगीं आतिशबाजी की दुकानें

बरेली,न्‍यूज टुडे नेटवर्क। बरेली के सुभाषनगर में रेलवे मैदान पर पटाखा बाजार लगने को लेकर बखेड़ा खड़ा हो गया। अआरपीएफ ने आतिशबाजी की दुकानें लगा रहे व्‍यापारियों को खदेड़ा तो व्‍यापारी डीएम के पास परमीशन लेकर पहुंच गए। बाद में प्रशासन के हस्‍तक्षेप के बाद वहां बाजार लगने देने की बात पर आरपीएफ भी राजी हो गया। डीएम की परमीशन दिखा देने के बाद बिना रेलवे की परमीशन के पटाखा बाजार लगा दिया गया।

Bansal Saree

पिछले कई दिनों से सुभाषनगर रेलवे मैदान में पटाखा बाजार लगाने को लेकर जद्दोजहद चल रही थी। किसी तरह प्रशासन बाजार लगवाने को राजी हो गया। डीएम ने परमीशन भी दे दी। रेल मैदान पर टीनशेड बनाकर दुकानों भी लगा दी गई। केवल आतिशबाजी रखना बाकी रह गया। जब आतिशबाजी व्‍यापारी वहां आतिशबाजी लेकर दुकानें लगाने पहुंचे तो मौके पर आरपीएफ के अफसर और जवान पहुंच गए। आरपीएफ ने रेल मैदान पर आतिशबाजी बाजार लगाने से मना करते हुए व्‍यापारियों को खदेड़ दिया। जिसके बाद आतिशबाजी व्‍यापारी डीएम के यहां पहुंच गए। बाद में डीएम की परमीशन दिखाकर बाजार लग सका।

रेलवे बोर्ड का सख्त आदेश है कि रेल ट्रैक किनारे किसी मेले का आयोजन नहीं किया जा सकता और न ही कोई आतिशबाजी पटाखा का बाजार लगाया जा सकता है। यदि रेल इंजन या ट्रैक से निकली चिंगारी पटाखा बाजार में पहुंच गई, तो तबाही मच जाएगी। आसपास के इलाके में डर रहेगा। व्यापारियों ने अपनी परमिशन लेने के बाद रेलवे से कोई अनुमति ही नहीं ली। रेल की जमीन में दर्जनों दुकानें पटाखा की लगा दी गईं।

Devi Maa Dental

सुभाषनगर की ओर रेल परिसर में पटाखा व्यापारियों ने पटाखा की दुकानें लगाई हैं। टीम को भेजकर वहां चेक कराया गया था। पटाखा की दुकानें हटाने के लिए कहा तो व्यापारियों ने डीएम की परमिशन दिखा दी। हालांकि दुकान लगाने वाले कारोबारियों को बुलाया गया है। इसके साथ ही वहां की सुरक्षा व्यवस्था के लिए भी निर्देश दिए गए हैं। यदि जिला प्रशासन ने परमिशन दी है तो सुरक्षा व्यवस्था भी जिला प्रशासन ही मुहैया कराएगा। अग्नि बचाव के संबंध में क्या-क्या सुविधाएं हैं, इसको आरपीएफ भी देखेगी। जिससे किसी घटना- दुर्घटना से बचा जा सके।