बरेली: आशाओं ने सीखा कार्ययोजना का प्रारूप, आशा कार्यकत्रियों का आठ दिवसीय प्रशिक्षण प्रारंभ

न्यूज टुडे नेटवर्क। महाराणा प्रताप संयुक्त जिला चिकित्सालय में नवीन आशाओं का 8 दिवसीय प्रारंभिक प्रशिक्षण के तृतीय बैच का चतुर्थ दिवस संपन्न हो गया जिसमें 30 नवीन आशाओं ने हिस्सा लिया ।चतुर्थ दिवस का शुभारंभ प्रार्थना के साथ राज्य प्रशिक्षक अमित तोमर द्वारा कराया गया। आठ दिवसीय प्रशिक्षण में अभी तक राज्य प्रशिक्षक अमित
 | 
बरेली: आशाओं ने सीखा कार्ययोजना का प्रारूप, आशा कार्यकत्रियों का आठ दिवसीय प्रशिक्षण प्रारंभ

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। महाराणा प्रताप संयुक्त जिला चिकित्सालय में नवीन आशाओं का 8 दिवसीय प्रारंभिक प्रशिक्षण के तृतीय बैच का चतुर्थ दिवस संपन्न हो गया जिसमें 30 नवीन आशाओं ने हिस्सा लिया ।चतुर्थ दिवस का शुभारंभ प्रार्थना के साथ राज्य प्रशिक्षक अमित तोमर द्वारा कराया गया। आठ दिवसीय प्रशिक्षण में अभी तक राज्य प्रशिक्षक अमित तोमर द्वारा आशा बनना, स्वास्थ्य समुदाय क्या है, आशा के कौशल विशेष रुप से हाथ धोना आदि बताए गए तथा हाथ धोने के कौशल का अभ्यास भी कराया गया।

Bansal Saree

आशा की दक्षताएं और कौशल पर चर्चा करते हुए नेतृत्व के अर्थ और उसकी शैली के बारे में विस्तार से बताया। सहभागी नेतृत्व हेतु विभिन्न बिंदुओं पर चर्चा करते हुए कहा गया कि लक्ष्य का निर्धारण  करें जवाब देही और जिम्मेदार बने, ऊंचे मानक निर्धारित करें निर्णय प्रक्रिया में दूसरों को भी शामिल करें तथा दूसरों को प्रेरित करें यही नहीं संचार कौशल की जानकारी देते हुए खेल के माध्यम से मौखिक संचार, गैर मौखिक संचार और लिखित संचार पर विस्तार से बताया गया। निर्णय लेने के कौशल पर विस्तार पूर्वक चर्चा करते हुए रोल प्ले द्वारा समझाया।

राज्य प्रशिक्षक अमित तोमर ब अन्य प्रशिक्षकों द्वारा स्वास्थ्य, स्वच्छता और बीमारी के बारे मेंआशाओं को विस्तार पूर्वक जानकारी देते हुए अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने में आहार और खाद पदार्थों की भूमिका की चर्चा की गई।अच्छे स्वास्थ्य में व्यक्तिगत स्वच्छता और स्वच्छ पर्यावरण की भूमिका पर खेल के माध्यम से समझाया गया। राज्य प्रशिक्षक अमित कुमार ने कहा कि स्वास्थ्य संबंधी आम समस्याओं से निपटने में आशाओं की महत्वपूर्ण भूमिका है इस पर विस्तार से जानकारी देते हुए आशाओं को सक्षम बनाया गया।

Devi Maa Dental

संक्रमण बीमारी पर प्रशिक्षण जारी रहा। प्रशिक्षण के दौरान आकस्मिक निरीक्षण करते हुए अपर शोध अधिकारी पी एस आनंद ने प्रशिक्षण के चतुर्थ दिवस को सुचारू रूप से संपन्न कराने योगदान दिया। प्रशिक्षण में आशा रजनी कुमारी, नीलम कुमारी, सुनीता देवी, रामवती, मीना, सविता, गीता देवी, सर्वेश कुमारी, रेखा रानी, भूपेश कुमारी, गीता देवी, नीरज, वीरावती, कुसुम, पुष्पा देवी, सुमन, सुधा वर्मा, सोमवती, शीला, राजो देवी, मधु दिवाकर, प्रवेश कुमारी, सुमन, राखी, माया देवी, राधा देवी, कविता देवी, जसोदा, लक्ष्मी देवी सहित शेरगढ़, क्यारा, फतेहगंज पश्चिमी, रामनगर की 30 आशाओं ने हिस्सा लिया।