पीलीभीत: टाइगर रिजर्व एरिया में बाघिन देखे जाने से दोबारा पैदा हुआ खौफ, वन विभाग ने जारी किया एलर्ट

न्यूज टुडे नेटवर्क। पीलीभीत टागर रिजर्व एरिया से सटे गांवों में बाघिन का खतरा फिर मंडराने लगा है। खारजा नहर की पट्टी पर सुबह फिर लोगों ने बाघिन को चहलकदमी करते देखा तो इलाके में दहशत फैल गई। बाघिन नहर के किनारे पानी पी रही थी। हाल ही में टाइगर रिजर्व एरिया से निकल कर
 | 
पीलीभीत: टाइगर रिजर्व एरिया में बाघिन देखे जाने से दोबारा पैदा हुआ खौफ, वन विभाग ने जारी किया एलर्ट

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। पीलीभीत टागर रिजर्व एरिया से सटे गांवों में बाघिन का खतरा फिर मंडराने लगा है। खारजा नहर की पट्टी पर सुबह फिर लोगों ने बाघिन को चहलकदमी करते देखा तो इलाके में दहशत फैल गई। बाघिन नहर के किनारे पानी पी रही थी। हाल ही में टाइगर रिजर्व एरिया से निकल कर बाघ और बाघिन ने कुछ ग्रामीणों पर हमला कर दिया था। कुछ एक मामलों में ग्रामीणों को अपनी जान भी गंवानी पड़ी है।

Devi Maa Dental

नहर किनारे बाघिन को देखे जाने के बाद इलाके में सतर्कता एलर्ट जारी किया गया है। वन विभाग ने लोगों से नहर किनारे ना जाने को कहा है। इस इलाके में अक्‍सर खूंखार जानवर इंसानों व पशुओं को अपना निशाना बनाते रहे हैं।

सुबह जब एक युवक नहर किनारे शौच को गया तो वहां दूसरे छोर पर बाघिन को पानी पीते देखा होश उड़ गए। हालत यह हुई कि युवक ने वहां से भागकर अपनी जान बचाई। इस दौरान जल्दबाजी में भागने से जब वह गिरा तो उसे पैर में चोट भी आ गई। युवक ने इसकी गांव आकर जानकारी दी। वन विभाग की टीम ने मौके पर जाकर गांव से नहर तक बाघिन के पदचिंहों को ट्रेस किया है। लोगों से नहर किनारे न जाने का अलर्ट जारी किया गया है।

Bansal Saree

क्षेत्र के गांव डगा से खारजा नहर पटरी तक बीते बीस दिनों से बाघिन और उसके शावकों की मौजूदी देखी जा रही है। शुरूआती दौर में तो बाघिन कम ही दिखाई देती थी लेकिन बीते सप्ताह भर से उसकी चहल कदमी बढ़ गई है। इससे हर कोई खाौफ में है। अब बाघिन ने डगा से हटकर खारजा नहर पटरी पर ही डेरा जमा लिया है।

तीन दिनों से नहर पर दिखने के बाद फिर बाघिन की लोकेशन नहर किनारे देखी गई है। माधोटांडा का युवक नहर किनारे शौच करने गया था। जैसे ही वह नहर किनारे पहुंचा तो देखा कि नहर के दूसर छोर पर बाघिन पानी पी रही थी। बाघिन को इस हाल में देखकर युवक का पसीना छूट गया और बिना शौच किए ही वह उल्टे पांव वहां से भागने लगा।

भागने के दौरान वह कई जगह गिरा तो पैर मे भी चोट हो गई। हो हल्ला होने पर आसपास के लोग जब नहर किनारे पहुंचे तो बाघिन झाड़ियों में जाकर छिप गई। सूचना पर वन विभाग की टीम ने मौके पर जाकर पदचिंहों को ट्रेस किया है और लोगों से नहर किनारे न आने की बात कही। गुरुवार की रात भी बाघिन की लोकेशन देखे जाने पर टीम मौके पर गई थी।