बरेली: गिड़गिड़ाते रहे परिजन, बेसुध होकर जमीन पर गिरा संक्रमित मरीज आधे घंटे बाद मिली व्हीलचेयर

राज श्री मेडिकल कालेज में संक्रमण से सात की मौत

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। यूपी के बरेली जिले में कोरोना संक्रमण पैर पसारने लगा तब प्रशासन ने स्वास्थ्य विभाग के साथ मिलकर 300 बेड कोविड अस्पताल के अलावा तीन मेडिकल कालेज को विशेष तौर पर डेडिकेटेड कोविड अस्पताल बनाया था। इनमें से एक है, फतेहगंज पश्चिमी नेशनल हाईवे पर स्थित टोल प्लाजा के पास राजश्री मेडिकल कॉलेज। 210 बेड की क्षमता वाले इस कोविड अस्पताल पर हमारे प्रतिनिधि कोविड संक्रमितों के इलाज, उनकी देखभाल के लिए व्यवस्थाओं का जायजा लेने पहुंचे।

Devi Maa Dental

दोपहर के समय एक बुजुर्ग धर्मेंद्र सांस लेने में दिक्कत का हवाला देते हुए राजश्री मेडिकल कालेज पहुंचे। इधर-उधर आधा घंटे तक सफेद ओवरकोट या स्वास्थ्यकर्मी के वेश में दिखने वाले हर शख्स से फरियाद की। लेकिन सुनवाई नहीं हुई। कुछ देर में उखड़ती सांसों की वजह से कदमों ने साथ छोड़ दिया। बेहाल बुजुर्ग जमीन पर गिरते-गिरते किसी तरह संभले और सिर पर हाथ रखकर बैठ गए। इसके बाद सिस्टम हरकत में आया और उन्हें व्हील चेयर पर बैठाकर उपचार के लिए वार्ड में ले जाया गया।

बेहाल बेटा बोला- मेरी गाड़ी में आक्सीजन है वहीं लगवा दो

Bansal Saree

वहीं, सनसिटी निवासी प्रशांत नाम का युवक स्वास्थ्य कर्मियों से फरियाद करते हुए कह रहा था कि वार्ड में भर्ती पिता पिछले दो घंटे से बिना आक्सीजन सपोर्ट के हैं। उनकी हालत बिगड़ती जा रही है। प्लीज कोई आक्सीजन लगवा दो। अगर आपके पास नहीं है तो मेरी गाड़ी में आक्सीजन सिलिंडर है, उसे ही लगा दें। लेकिन युवक की बात सबने सुनकर अनसुनी कर दी।

कोरोना संक्रमण से मेडिकल कालेज में सात की मौत

टोल प्लाजा के समीप राजश्री मेडिकल कालेज में सात कोरोना संक्रमितों की मौत हो गई। इसकी वजह आक्सीजन लेवल कम होना बताया जा रहा है। मृतकों में गेंदालाल निवासी कैंट, मुकेश दिवाकर निवासी गार्डन सिटी, हरीश चंद्र निवासी शास्त्री नगर, मनोरमा गुप्ता निवासी बाइपास बरेली, संतोष गुप्ता निवासी बहेड़ी, राज बहादुर ङ्क्षसह निवासी नगरिया सेंथल व जितेंद्र पाल निवासी भमोरा शामिल थे। मनोरमा गुप्ता के पुत्र प्रशांत गुप्ता ने बताया कि तीस अप्रैल को सीने में दर्द होने के कारण मां को अस्पताल में भर्ती कराया था। सात मरीजों का आक्सीजन लेवल 50 से कम होने के कारण फेफड़े बुरी तरह से संक्रमित हो गए थे। इसलिए उनकी मौत हो गई।

300 बेड अस्पताल में बहते रहे लोगों के आंसू

शहर स्थित 300 बेड कोविड अस्पताल में भी संक्रमितों की मौत का सिलसिला जारी रहा। बताया जाता है कि शाम तक चार लोगों की कोविड से मौत हुई। यहां कोई तेज एंबुलेंस पर बैठकर हड़बड़ाहट में संक्रमित स्वजन को भर्ती कराने पहुंचा था। वहीं, कोई आंखों में आंसू लेकर अपने की विदाई पर बेहाल था। कई लोग कंसन्ट्रेटर और आक्सीजन सप्लाई पर रह-रहकर करवट बदल रहे थे।

राजश्री मेडिकल कालेज में व्यवस्थाएं दुरुस्त रखने के लिए लगातार निरीक्षण करते हैं। अगर संसाधन होते हुए भी मरीजों को भर्ती करने में लापरवाही हो रही है तो जांच कर कार्रवाई होगी।

- डॉ.आरएन गिरी, नोडल अधिकारी, राजश्री मेडिकल कालेज