बरेली: जिले भर में मनाया गया हिन्‍दी दिवस, सरकारी अर्धसरकारी कार्यालयों समेत शैक्षणिक संस्‍थाओं में आयोजन

जिला कारागार में कवि सम्‍मेलन का हुआ आयोजन 

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। हिंदी दिवस पर बरेली शहर के तमाम स्कूलों में जमकर कार्यक्रम हुए। बच्चों के बीच स्लोगन, निबंध, भाषण जैसी कई प्रतियोगिताएं कराई गई। प्रतियोगिता जीतने वाले छात्रों को सम्मानित कर पुरस्कृत भी किया गया। स्कूलों में छात्रों को हिंदी के बारे में जानकारी दी गई। साथ ही यह भी बताया गया कि भारत में कहां-कहां पर कितने लोग हिंदी बोलते है। कार्यक्रम कराने वाले स्कूलों में सरकारी से लेकर निजी स्कूल शामिल थे।

Bansal Saree

बीबीएल में श्रेष्ठ भारत थीम पर हुई प्रतियोगिताएं

अलखनाथ रोड स्थिति बीबीएल पब्लिक स्कूल में एक भारत श्रेष्ठ भारत थीम पर प्रतियोगिताएं कराई गई। जिसमें छात्रों ने जमकर हिस्सा लिया। स्कूल के प्रधानाचार्य डॉ. श्यामेश और प्रशासक दीपक गुप्ता ने कार्यक्रम का शुभारंभ किया। प्रतियोगिता में छात्रों ने अपने विचार रखे। इसके बाद प्रधानाचार्य डॉ. श्यामेश ने छात्रों से कहा कि हिंदी भाषा का सीधा संबंध हमारे संस्कार तथा सभ्यता से है। यदि भारत को विश्वगुरु के रूप में देखने का सपना साकार करना है तो हमें हिंदी को मजबूत करना होगा। कार्यक्रम में स्कूल की साधना अग्रवाल, रेखा पाठक, नीरू वैश्य, दीप्रि दीक्षित, शिल्पी शर्मा आदि लोग शामिल हुए।

जीआईसी में छात्रों को मिली हिंदी दिवस की जानकारी

राजकीय इंटर कॉलेज में एनएसएस इकाई ने भी हिंदी भाषा के सम्मान की शपथ ली। स्वयंसेवकों ने हिंदी विषय की अनेक विधाओं की जानकारी प्राप्त की। इसी के साथ विद्यालय के प्रधानाचार्य बीएल गौतम ने कई उधारण के द्वारा हिंदी भाषा के महत्व पर चर्चा की। उपप्रधानाचार्य अवनीश यादव ने हिंदी साहित्य की जानकारी संवयसेवकों को प्रदान की। NSS की कार्यक्रम अधिकारी डॉ नमिता त्रिपाठी ने बताया कि हिंदी हमारी राष्ट्र भाषा है जिसकी लिपि देवनागरी है। इस मौके पर ओमपाल, संस्कृत प्रवक्ता किरण, शिव शुक्ला, समेत तमाम शिक्षक और छात्र मौजूद रहे।

Devi Maa Dental

सरकारी स्कूलों में छात्रों ने मनाया हिंदी दिवस

हिंदी दिवस पर सरकारी स्कूलों में भी शिक्षकों ने बच्चों को कई तरह की प्रतियोगिताएं कराई। अधिकांश स्कूलों में सुलेख, निबंध, भाषण, कविताएं जैसी तमाम प्रतियोगिताएं कराई गई। शिक्षकों का कहना था कि बच्चों को हिंदी दिवस के बारे में भी पूरी जानकारी दी गई।

जिला जेल में कवि सम्‍मेलन का आयोजन 

बरेली।जिला कारागार बरेली में हिंदी दिवस के उपलक्ष में 14 सितंबर को कवि सम्मेलन आयोजित किया गया ।कार्यक्रम की अध्यक्षता हरीश शर्मा यमदूत ने की ।कार्यक्रम का संचालन रोहित राकेश ने किया । अन्त में आयोजक जेल अधीक्षक श्री विजय विक्रम सिंह ने सभी कवियों का आभार  व सम्मान किया । शुभारम्भ  एकता भारती की सरस्वती वंदना से हुआ।टूंडला फिरोजाबाद से सुबोध सुलभ ,हरदोई से अजीत शुक्ला ,पीलीभीत से एकता भारती, बदायूं से कमल कांत तिवारी, मुंबई से हरीश शर्मा "यमदूत" बरेली से नगमा बरेलवी राजीव गोस्वामी व रोहित राकेश ने कार्यक्रम में काव्य पाठ किया।हरीश यमदूत ने " भूत और अफसर " रचना  में उनकी परस्पर तुलना करते हुए कहा - सूखा में क्षेत्र के अफसरों की होती चाँदी । भूत खुश होयँ सोच सोच अपनी बढ़ रही आबादी ।।ओज कवि कमलकांत तिवारी ने कहा- हर जुल्म और जालिम को सवरने नहीं देंगे । भारत की सरजमी को बिखरने नहीं देंगे।।  ऊँचा सदा ही विश्व में झंडा मेरा रहे
 हम रंग-तिरंगे के उतरनेने नहीं देंगे।कार्यक्रम का संचालन करते हुए रोहित राकेश ने कहा "कैसे बचेगी हिंदी है यह प्रश्न दोस्तों ,उत्तर यही है आप जरा मन बनाइए हास्य कवि अजीत शुक्ल ने कहा "चाटुकारिता के फंडे बदल रहे हैं।,आ रहा चुनाव तो झण्डे बदल रहे हैं। टूंडला से आए सुबोध  सुलभ ने कहा "हिंदी है हमारी भाषा इसका नहीं है अनपढ़ से शुरू हो ज्ञानी तक जाती है।पीलीभीत से आई कवियत्री एकता भारती ने कहा - विश्व को दिया निदान,जीवन विधान ज्ञान
सत्यम शिवम सुंदरम हिंदी भाषा है। नगमा बरेल्वी ने कहा केधियो पर भी अगर प्यार लुटाया जाए।दोस्त जेल का माहौल बदल सकता है।राजीव गोस्वामी ने कहा- थोड़े ही दिनों में मेरी ये भूल मुझे रुलाने लगी l क्योंकि मेरी पत्नी भी मुझे पापा कह कर बुलाने लगी।