बरेली: कोरोना काल में आयुर्वेद से ऐसे करें बचाव, विश्‍व पर्यावरण दिवस पर बताए औषधीय पौधों के गुण

राजकीय आयुर्वेदिक कालेज एवं चिकित्‍सालय की ओर से चलाया जा रहा जागरूकता अभियान  

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। एस0आर0 एम0 राजकीय आयुर्वेदिक कालेज एवं चिकित्सालय बरेली में विश्व पर्यावरण दिवस  के अवसर पर  प्राचार्य एवं अधीक्षक प्रो0 डी0के0मौर्य के साथ शिक्षा प्रभारी डा0 संतोष कुमार एवं डॉ रिंकी प्रभारी द्रव्यगुण, डा0 प्रेम प्रकाश गंगवार प्रभारी चिकित्सालय एवं डाअनिल कुमारडॉ नितिन शर्माडॉ अतुल कुमार और श्री  अशोकभीमसेन आदि ने तुलसी , सदाबहार , आंवला, एलोवेरा, शमी आदि गुणकारी पौधों का रोपण कार्य  किया। प्रो0 डी0के0मौर्य ने कहा कि आज पर्यावरण में बढते प्रदूषण की वजह से हम अनेकों बिमारियों के शिकार हो रहे हैं।

Devi Maa Dental

प्रकृति ने कोरोना जैसे पैनडेमिक के जरिए हमें अपने पर्यावरण को लेकर सोचने का एक सुनहरा मौका दिया है कि हम लोग खुद को बदलकर प्रकुति व पर्यावरण संरक्षण में उनके मददगार बन सकते है। यह हम लोगों को अच्छे से पता चल चुका है कि पर्यावरण को नुकसान पहुॅचा कर हम खुद अपनी समस्याओं का कारण बन रहे हैं जिसे हमको जल्दी से जल्दी खत्म करना होगा। ऐसे में पेड लगाने एवं पेडों की रक्षा की अधिक आवश्यकता है। इस नवीन टैक्नोला्ॅजी के जमाने में हम अपने पर्यावरण पर होने वाले हानिकारक प्रभावों को अनदेखा कर रहे हैं। बडा अजीब सा लगता है इस नवीन टैक्नोलाॅजी के समय में अगर पेड वाईफाई सिग्नल देते तो न जाने हम कितने पेड लगाते। अगर हम जीवित रहना चाहते हैं और अच्छा जीवन यापन करना चाहते हैं तो अधिक से अधिक पेड लगाने चाहियें, आक्सीजन लेने और कार्बन डाई आक्साइड छोडने के अलावा पेड पर्यावरण से अनेको हानिकारक गैसों को अवशोषित करते हैं।

जिससे वायु शुद्ध और ताजी बनती है जितने हरे पेड होंगे उतना ही आक्सीजन का उत्पादन होगा और अधिक विषैली गैसों को ये अवशोषित करेगें। पिछले दो महीने में आक्सीजन की कमी से तडपते हुए मरीजों को किसने नहीं देखा, कई को कोरोना लील गया  और कई ने कोरोना को मात दे दी, इनसे ज्यादा बेहतर आक्सीजन का महत्व कौन बता सकता है, अब जीवन दोबारा लौट रहा है मगर आक्सीजन को कभी मत भूलिए, पर्यावरण में इस जीवनदायनी की बहुत जरूरत है।  हम प्रकुति का विरोध न करें, बल्कि एकजुट होकर प्रकृति के साथ सामंजस्य बनाना बहुत जरूरी है।  पर्यावरण को स्वच्छ रखने की शरूआत अपने घर से ही हो तो क्या बात है हम अपने घर, आंगन, बगीचे में ऐसे कई पौधे हैं जिनको लगाकर घरेलु वातावरण को स्वच्छ बना सकते हैं।  

Bansal Saree

साथ ही फल , हरी सब्जी, औषधीय गुणों से युक्त पौधों को लगाकर हम उनके सेवन से स्वस्थ रह सकते हैं, तुलसी बहुत ही गुणकारी और इम्युनिटी वर्धक पौधा है, हार सिंगार, आंवला, करी पत्ता, गिलोय , ऐलोवैरा, बडे ही गुणकारी और स्वास्थ्यवर्धक पौधे हैं, इनके सेवन से हम और हमारा परिवार स्वस्थ रह सकता है। फलों में अनार, आडू,, आंवला, नीबू, पपीता आदि के पेड लगाने से घर की शोभा तो बनेगी ही वातावरण में आक्सीजन का स्तर सही रहेगा, और इनके सेवन से हम और हमारा परिवार स्वस्थ रहकर सुखी जीवन यापन करेगा। हम पूरे वर्ष में 05 गुणकारी पेड जरूर लगाये और उनकी सुरक्षा करें यही हमारा संकल्प हो जिससे हमारा पर्यावरण स्वस्थ एवं गुणवान बने। हमें विशेष पर्व पर दूसरों को पेड देना चाहिये और उन्हें पेडों की रक्षा के लिये प्रोत्साहित करना चाहिये।