बाराबंकी: रात में बिना सूचना तहसील में बनी मस्जिद की दीवार गिराने से मुस्लिम धर्मगुरूओं में आक्रोश

प्रशासन ने अवैध निर्माण बताकर की कार्रवाई, सीएम से अफसरों पर कार्रवाई की मांग

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। यूपी के बाराबंकी में रात के समय बिना सूचना सौ साल पुरानी मस्जिद की दीवार गराए जाने से आक्रोश फैल गयास। आल इंडिया पर्सनल ला बोर्ड और सुन्‍नी सेंट्रल वक्‍फबोर्ड ने भी बिना सूचना इस कार्रवाई पर नाराजगी जतायी है। सीएम से इस मामले में लापरवाही बरतने वाले अफसरों के खिलाफ कार्रवाई की मांग भी की है। यह मस्जिद रामसनेही घाट के तहसील परिसर में स्थित है। प्रकरण की न्यायिक जांच कराने के साथ साथ मस्जिद के पुनर्निर्माण की मांग भी की गयी है।

Devi Maa Dental

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के कार्यवाहक महासचिव मौलाना खालिद सैफुल्लाह रहमानी ने कहा है कि रामसनेहीघाट तहसील में स्थित गरीब नवाज मस्जिद को प्रशासन ने बिना किसी कानूनी औचित्य के सोमवार रात पुलिस के कड़े पहरे के बीच शहीद (गिरा) कर दिया।

रहमानी का कहना है कि मार्च के महीने में रामसनेहीघाट के उप जिलाधिकारी ने मस्जिद कमेटी से मस्जिद से संबंधित कागजात मांगे थे। इस नोटिस के खिलाफ मस्जिद प्रबंधन कमेटी ने इलाहाबाद उच्च न्यायालय में याचिका दाखिल की थी। अदालत ने समिति को 18 मार्च से 15 दिन के अंदर जवाब दाखिल करने की मोहलत दी थी, जिसके बाद एक अप्रैल को जवाब दाखिल कर दिया गया, पर इसके बावजूद बिना सूचना के जिला प्रशासन ने मस्जिद शहीद करने का कदम उठाया है।

Bansal Saree

मुस्लिम धर्मगुरु मोहम्मद साबिर अली रिजवी का कहना है कि बाराबंकी जिले की यह मस्जिद करीब 100 साल पुरानी है। और उत्तर प्रदेश सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड में इसका इंद्राज भी है। इस मस्जिद के सिलसिले में किसी किस्म का कोई विवाद भी नहीं है।

वहीं, बाराबंकी के जिलाधिकारी आदर्श सिंह ने मस्जिद और उसके परिसर में बने कमरों को अवैध निर्माण बताया। उन्होंने अपने एक बयान में कहा कि इस मामले में संबंधित पक्षकारों को 15 मार्च को नोटिस भेजकर स्वामित्व के संबंध में सुनवाई का मौका दिया गया था, लेकिन परिसर में रह रहे लोग नोटिस मिलने के बाद फरार हो गए। जिसके बाद तहसील प्रशासन ने 18 मार्च को परिसर पर कब्जा हासिल कर लिया।

जिलाधिकारी का कहना है कि इलाहाबाद हाईकोर्ट की खंडपीठ लखनऊ द्वारा इस मामले को निस्तारित करने पर यह साबित हुआ कि आवासीय निर्माण अवैध है। इसी आधार पर उपजिला मजिस्ट्रेट रामनेहीघाट ने न्यायिक प्रक्रिया के तहत आदेश का अनुपालन कराया है।