बड़े साहब ने लिए थे घूस के 54 लाख रूपए, बाबूजी ने सरकारी खजाने में जमा कर दिए, अब हिसाब नहीं दे पा रहे

पावर कार्पोरेशन के एक्‍सईएन का है यह कारनामा, बाबू बर्खास्‍त

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। पावर कार्पोरेशन के चेयरमैन ने घूसखोरी के एक अजीबोगरीब मामले में कार्रवाई करते हुए एक्‍सईएन और बाबू को बर्खास्‍त कर दिया है। इस मामले में इंजीनियर पर भी विभागीय कार्रवाई की गयी है। दरअसल इस मामले में इंजीनियर ने घूस ली लेकिन बर्खास्‍त बाबू को किया गया है। बाबू ने घूस की रकम को गलती से सरकारी खाते में जमा करा दिया। जिसके बाद पूरे मामले की पोल खुल गयी।

Devi Maa Dental

इंजीनियर संजय शर्मा के पास घूस के 54 लाख रुपए आए। उस पैसे को उसने अपने बाबू महेश कुमार को दे दिया। बताया जा रहा है कि बाबू ही एक्सईएन का पूरा काम देखता था। पैसा देने के बाद इंजीनियर उसको यह बताना भूल गया कि यह घूस है। ऐसे में बाबू ने गलती से उस पैसे को तब के विजया बैंक (मौजूदा समय इसको बैंक ऑफ बड़ौदा में मर्ज कर दिया गया है) के खाते में बिजली बिल के रूप में जमा करा दिया।

उसको लगा कि किसी बड़े इंडस्ट्री वाले से एडंवास पैसा जमा कराया गया है। जब आखिर में पावर कॉर्पोरेशन का अकाउंट मिलाया जाने लगा तो पता चला कि अकाउंट में 54 लाख रुपये ज्यादा आ गए हैं। वहीं, दूसरी तरफ घूस का पैसा जब बांटने की बारी आई तो पता चला कि वह तो गलती से बिल का अमाउंट समझकर जमा हो गया है। मामले में तात्कालिक सीनियर अधिकारियों ने जांच बैठा दी।

Bansal Saree

झूठी गवाही दी लेकिन पोल खुल गयी

मामला खुला तो सच को छुपाने के लिए दोषी की तरफ से झूठे गवाह पेश कर दिए गए। लेकिन हर बार पोल खुल गई। हालांकि इस दौरान करीब डेढ़ साल से ज्यादा का समय लग गया। उसने पहले बताया कि पैसा कुछ लोगों से एडवांस लिया है। लेकिन उसके लिए पेश की गई दलील पकड़ में आ गई। उसने करीब 30 लोगों की एक सूची दी। बताया कि इन लोगों ने पैसा दिया था। यह एडवांस का पैसा है , लेकिन किसी की रसीद नहीं काटी गई थी। विभागीय नियमावली में इसे गलत पाया गया। साबित हुआ कि इस पैसे को खुद के लिए लिया गया था।

पहला झूठ पकड़े जाने के बाद उसने सभी 30 लोगों का एफिडेविट जमा कर दिया। इसकी भी जांच बैठी। इसमें यह साबित हुआ कि सभी एफिडेविट एक ही जगह से बनाया गया है। इसके अलावा इन सभी लोगों की तरफ से जो अमाउंट बताया गया था, उसको जोड़ देने के बाद 32 लाख रुपये भी नहीं हो रहे थे। ऐसे में 22 लाख रुपए फिर भी ज्यादा निकल आए। अब इस झूठ को एक्सईएन और बाबू साबित नहीं कर पाए। मामले विभागीय नियमावली के तहत अधिकारी भी सीधे बर्खास्तगी की कार्रवाई की गई।