पत्रकारिता दिवस पर ऐलान: कोरोना से मृत पत्रकारों के परिजनों को दस लाख की आर्थिक मदद देगी योगी सरकार

मान्‍यता की बाध्‍यता नहीं सभी श्रमजीवी पत्रकारों के लिए लागू होगा निर्देश

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। हिन्‍दी पत्रकारिता दिवस के मौके पर योगी सरकार ने कोरोना से मृत पत्रकारों के परिजनों को दस लाख रूपयों की आर्थिक मदद देने का ऐलान किया है। सीएम योगी ने दिवंगत पत्रकारों के निधन पर गहरा शोक व्‍यक्‍त करते हुए यह निर्देश जारी किए। मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार मृत्युंजय कुमार ने सोशल मीडिया के जरिए सरकार के इस फैसले की जानकारी दी है।

Devi Maa Dental

आज टीम 9 की बैठक में कोरोना संक्रमण से जान गवांने वाले उत्तर प्रदेश के पत्रकारों की मदद को लेकर चर्चा हुई। जिसके बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने ऐसे पत्रकारों के परिवारों की मदद का निर्देश दिया। बैठक में तय हुआ कि सरकार कोरोना संक्रमण की वजह से जान गंवाने वाले पत्रकारों के परिवार या आश्रितों को 10-10 लाख रुपए की आर्थिक सहायता करेगी। इस संबंध में निर्देश जारी कर दिया गया है। जल्द ही परिवारों को यह आर्थिक सहायता भी मुहैया करवा दी जाएगी।

पत्रकार भी फ्रंटलाइन वर्कर

Bansal Saree

वैश्विक महामारी कोविड-19 दौरान फ्रंटलाइन वर्कर्स के साथ ही साथ पत्रकार भी एक्टिव रहे। माहामारी के दौरान पत्रकारों ने जान जोखिम में डाल कर कवरेज किया। सरकार के साथ ही आम जनता की आवाज भी उठाते रहें है। ऐस में पत्रकार बड़ी संख्या में घरों से बाहर निकल कर फील्ड रिपोर्टिंग की और संक्रमित भी हुए। ऐसे में योगी सरकार की इस पहल का स्वागत पत्रकारों के हितों के लिए बने संगठनों ने भी किया है।

संस्थान को लिखकर देना होगा

अधिकारियों का कहना है की इसमें एसी कोई बाध्यता नहीं रखी जाएगी की वो राज्य मुख्यालय से मान्यता प्राप्त हो। सभी तरह के श्रमजीवी पत्रकारों को यह लाभ दिया जाएगा। शर्त यह है कि उन्हें अपने संस्थान से जारी लेटर देना होगा। किस अस्पताल में कोविड का इलाज हुआ उसके डॉक्यूमेंट्स जमा कराने होंगे। इसके लिए संबंधित पत्रकार को सूचना विभाग में आवेदन करना होगा। जिसका निस्तारण बारी बारी से किया जाएगा।