इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के सभी हास्‍टल बनेंगे कोविड वार्ड, छात्रों से वापस लौटने की अपील

आनलाइन जारी रहेगी छात्रों की पढ़ाई

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। कोरोना संक्रमण काल के दौरान विभिन्‍न शहरों में बेडों की कमी को देखते हुए इलाहाबाद सेन्‍ट्रल यूनिवर्सिअी ने अपने सभी हास्‍टल्‍स को कोविड वार्ड बनाने का फैसला लिया है। गौरतलब है कि प्रदेश समेत इलाहाबाद में कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा है। इन्‍हीं हालातों को देखते हुए यूनिवर्सिटी ने हास्‍टल को कोविड वार्ड बनाने का फैसला किया है। यूनि‍वर्सिटी प्रशासन ने छात्रों से हास्‍टल खाली करके घरों को लौट जाने की अपील करते हुए कहा कि छात्र अपनी पढ़ाई आनलाइन रूप से जारी रखें।

Devi Maa Dental

इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी ने यह फैसला जिला प्रशासन के अनुरोध के बाद लिया गया है। इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी की कुलपति प्रोफेसर संगीता श्रीवास्तव के निर्देश पर असिस्टेंट रजिस्ट्रार देवेश कुमार गोस्वामी ने डीएसडब्ल्यू प्रोफेसर के पी सिंह को पत्र लिखकर कहा है कि प्रदेश में तेजी से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को देखते हुए कुलपति के निर्देश पर हॉस्टल्स को तत्काल खाली करा लिया जाए

यह निर्देश छात्र हित को देखते हुए लिया गया है इसके साथ ही हॉस्टल को कोरोना वार्ड में परिवर्तित करने के लिए प्रक्रिया भी शुरू की जाए. ऐसे में सभी छात्र हॉस्टल छोड़कर अपने घरों को वापस लौट जाएं और ऑनलाइन मोड पर अपनी पढ़ाई जारी रखें।

Bansal Saree

पत्र में जिक्र किया गया है के अस्पतालों में कोविड मरीजों की भर्ती के लिए जगह नहीं बची है ऐसे में हॉस्टल को कोविड वार्ड में बदला जाएगा। इलाहाबाद विश्वविद्यालय की पीआरओ डॉक्टर जया कपूर ने बताया इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी में कुल 16 हॉस्टल हैं जिनकी स्ट्रैंथ 3000 के आसपास है . ऐसे में अगर इन हॉस्टल को कोविड वार्ड में बदला जाएगा तो हजारों कोरोना संक्रमित मरीजों को बड़ी राहत मिलेगी और उनका बेहतर इलाज संभव हो पाएगा।