आगरा: पांच मिनट में 22 मौत पर पारस अस्‍पताल को सील किया,  राहुल और प्रियंका ने सरकार को घेरा

कांग्रेस नेताओं ने कहा सरकार में मानवता और आक्‍सीजन दोनों की कमी

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। यूपी के आगरा में पांच मिनट में 22 मरीजों के मौत के मामले में सियासत गर्म होने लगी है। आगरा के पारस अस्‍पताल में पांच मिनट तक आक्‍सीजन सप्‍लाई रोक देने के कारण 22 मरीजों की मौत हो गयी। अब प्रशासन ने पारस अस्‍पताल को सील करने की कार्रवाई करनी शुरू कर दी है।

Devi Maa Dental

मंगलवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने योगी सरकार को निशाने पर लिया है। राहुल ने सोशल मीडिया पर लिखा, 'भाजपा शासन में ऑक्सीजन और मानवता दोनों की भारी कमी है। इस खतरनाक अपराध के जिम्मेदार सभी लोगों के खिलाफ तुरंत कार्रवाई होनी चाहिए। दुख की इस घड़ी में मृतकों के परिवारजनों को मेरी संवेदनाएं।'

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने उस वीडियो को पोस्ट किया है, जिसमें पारस अस्पताल के मालिक डॉक्टर अरिंजय जैन यह कह रहे हैं कि 5 मिनट के लिए ऑक्सीजन की आपूर्ति बंद कर दी गई और 22 मरीजों की मौत हो गई।

Bansal Saree

प्रियंका गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की कुछ बड़ी बातों का जिक्र किया है। प्रियंका ने ट्वीट किया, 'पीएम कहते हैं कि मैंने ऑक्सीजन की कमी नहीं होने दी। सीएम कहते हैं कि ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं। कमी की अफवाह फैलाने वालों की संपत्ति जब्त होगी। मंत्री ने कहा, मरीजों को जरूरत भर ऑक्सीजन दें। ज्यादा ऑक्सीजन न दें। आगरा अस्पताल में ऑक्सीजन खत्म थी। 22 मरीजों की ऑक्सीजन बंद करके मॉक ड्रिल की। जिम्मेदार कौन?'

ये बोले यूपी के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री

इस पूरे मामले पर यूपी के स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह का कहना है, ‘पारस अस्पताल में ऑक्सीजन उपलब्ध कराने में समस्या की शिकायत मिली है। जांच की जा रही है और जांच पूरी होने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है।'

आगरा के पारस हॉस्पिटल के मालिक अरिंजय जैन के सोमवार को 4 वीडियो सामने आए। जिसमें वे कबूल कर रहे हैं कि मरीजों की छंटनी के लिए 26 अप्रैल को सुबह 7 बजे मॉक ड्रिल की गई थी, जिसमें कोरोना संक्रमित मरीजों की ऑक्सीजन सप्लाई रोक दी गई। इस दौरान 22 मरीजों ने 5 मिनट में ही दम तोड़ दिया था। उस समय अस्पताल में 96 मरीज भर्ती थे। डॉ. अरिंजय जैन लोगों से बात करते समय कह रहे हैं कि खुद मुख्यमंत्री भी ऑक्सीजन का इंतजाम नहीं कर सकता।