विरोध के बाद कानपुर ट्रैफिक पुलिस ने पहले चालान कैंसिल किया बाद में खुन्‍नस निकालने को जड़ दिया और तगड़ा जुर्माना

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। कानपुर में कार चालक का नो हेलमेट में चालान काटने के बाद विरोध के निशाने पर आयी ट्रैफिक पुलिस ने कार चालक का नो हेलमेट का चालान तो कैंसिल कर दिया। वहीं खुन्‍नस निकालने के लिए नंबर प्‍लेट पर 5 हजार रूपए का जुर्माना ठोंक दिया। दरअसल कानपुर में ट्रैफिक पुलिस ने एक कार चालक का नो हेलमेट में चालान कर दिया। जिसके बाद युवक ने हेलमेट पहनकर कार चलाकर सोशल मीडिया पर पुलिस के इस कारनामे का विरोध जताया। वीडियो वायरल हुआ तो फजीहत के बाद पुलिस मुख्‍यालय के अफसरों ने जांच के आदेश दे दिए। आरोप है कि जांच करने पहुंची पुलिस टीम ने कार चालक का नो हेलमेट का चालान तो कैंसिल कर दिया लेकिन खुन्‍नस निकालने के लिए कार चालक पर नंबर प्‍लेट का 5 हजार रूपए का दूसरा चालान काटकर जुर्माना ठोंक दिया।

Bansal Saree

कानपुर के नौबस्ता निवासी विशाल मिश्र के मोबाइल पर 31 अगस्त एक मैसेज आया। जिससे पता चला कि बगैर हेलमेट के होने की वजह से उनका 500 रुपए का चालान कर दिया गया है। कार चालक का हेलमेट पर चालान होने से ट्रैफिक पुलिस सवालों के घेरे में आ गई थी। डीसीपी ट्रैफिक बीबीजीटीएस मूर्ति ने बताया कि मामले की जांच की गई तो पता चला कि तकनीकी खराबी की वजह से सिस्टम ने गलत नंबर ट्रेस कर लिया था। इसलिए ऐसा हुआ।

वहीं, बीते मंगलवार को डीसीपी ने जब टीम भेजकर कार मालिक से बातचीत कराई और कार देखी तो पता चला कि कार में जो नंबर प्लेट लगी है, वो भी नियमानुसार नहीं है। इसलिए पुराने गलत चालान कैंसिल करने के साथ 5 हजार का नया चालान कर दिया। विशाल का कहना है कि पुलिस ने अपनी झल्लाहट निकालने के लिए चालान काट दिया है। पुलिस का यह रवैया बिलकुल ठीक नहीं है। ताबड़तोड़ चालान करके जनता को परेशान किया जा रहा है।

Devi Maa Dental

जांच करने पहुंची ट्रैफिक पुलिस की टीम ने नो-पार्किंग और नो-हेलमेट पर किए गए गलत चालान तो ठीक कर दिया, लेकिन मानक के विपरीत नंबर प्लेट पर 5 हजार का नया चालान काट दिया। ऐसे में विशाल का कहना है कि पुलिस ने खुन्नस निकालने के लिए ऐसा चालान किया है। जबकि खड़ी गाड़ी में चालान करना नियम के विपरीत है।

रोजाना गलत चालान से जनता परेशान

प्रशांत का यह कोई पहला मामला नहीं है। इस तरह से रोजाना कई लोग अपने गलत चालान लेकर ट्रैफिक पुलिस के पास पहुंच रहे हैं। किसी बाइक सवार का सीट बेल्ट में चालान कर दिया गया तो किसी कार चालक का नो-हेलमेट में चालान कर दिया गया है। ट्रैफिक पुलिस की गलती से लोगों को उसे कैंसिल कराने के लिए अफसरों के चक्कर काटने पड़ रहे हैं।