यशवंत सिन्हा के पुत्र करेंगे भाजपा प्रत्याशी के पक्ष में मतदान, रोचक रहेगा मुकाबला...

 | 

न्यूज़ टुडे नेटवर्क ! यशवंत सिन्हा के पुत्र जयंत सिन्हा अपने पिता के बदले भाजपा प्रत्याशी द्रौपदी मुर्मू के पक्ष में मतदान करेंगे गौरतलब है कि जयंत सिन्हा हजारीबाग से भाजपा के सांसद हैं।
आगामी 18 जुलाई को देश में राष्ट्रपति चुनाव के लिए वोट डाले जाएंगे और 21 जुलाई को देश को नया राष्ट्रपति मिल जायेगा। ऐसे में जहां एनडीए ने इस चुनाव में द्रौपदी मुर्मू को अपना उम्मीदवार बनाया है तो वहीं विपक्षी दलों ने नरेंद्र मोदी के कट्टर विरोधी कहे जाने वाले यशवंत सिन्हा को अपना प्रत्याशी बनाया है। फिलहाल संख्या बल के आधार पर देखें तो यशवंत सिन्हा के राष्ट्रपति बनने की उम्मीद कम ही है।

krishna hospital

वहीं यशवंत सिन्हा की पत्नी नीलिमा सिंह ने कहा कि मेरे पति को राष्ट्रपति उम्मीदवार बनाए जाने से खुशी तो है लेकिन मुश्किल भी है। उन्होंने कहा कि मेरे पति साफ बोलने वाले लोगों में से हैं। उन्हें जो ठीक लगता है वहीं करते हैं। उनका कैरेक्टर मजबूत है। नीलिमा सिंह ने कहा कि यशवंत सिन्हा के पास उनका आत्मविश्वास है। गलत कामों को वो कतई बर्दाश्त नहीं करते हैं। इसलिए वो कभी-कभी अधिक बोल जाते हैं, ज्यादा अस्पष्ट बोल जाते हैं। वहीं यशवंत सिन्हा के राष्ट्रपति चुनाव जीतने की उम्मीद पर नीलिमा सिंह ने कहा कि जीतने की उम्मीद तो कोई खास नहीं है क्योंकि बहुमत भाजपा के पास है और उम्मीदवार भी उन्होंने अच्छा चुना है। ऐसे में कोई खास उम्मीद तो नहीं है लेकिन फिर भी देखते हैं क्या होता है?

गौरतलब है कि राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए की आदिवासी महिला के तौर पर प्रत्याशी द्रोपदी मुर्मू को कई अन्य दलों का भी समर्थन मिल रहा है। इसमें बीजेडी शामिल है बता दें कि मुर्मू को उम्मीदवार बनाये जाने के बाद बीजद अध्यक्ष और ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने बुधवार को राज्य विधानसभा के सभी सदस्यों से आगामी राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू का समर्थन करने की अपील की है। उन्होंने द्रोपदी मुर्मू को राज्य की बेटी बताया है। बता दें कि पटनायक वर्तमान में इटली के दौरे पर हैं। ऐसे में उन्होंने अपने एक ट्वीट में लिखा, “ओडिशा विधानसभा के सभी सदस्यों से, पार्टी लाइनों से अलग जाकर ओडिशा की बेटी द्रौपदी मुर्मू को देश के सर्वोच्च कार्यालय में चुनने के लिए सर्वसम्मति से समर्थन देने की अपील है साथ ही यह विश्वास भी दिलाया है कि द्रौपदी मुर्मू विजई होंगी।

chaitanya

इसी बीच एनडीए प्रत्याशी की पुत्री इतिश्री ने कहा है कि मेरी मां बहुत ही परिश्रमी है, मेहनती है। इससे पहले भी मां को जितने भी पद मिले हैं, उस पद पर उन्होंने पूरी ईमानदारी और मेहनत के साथ कार्य किया है। मेरी मां पहले वार्ड मेम्बर बनी थी। बाद में वह उपाध्यक्ष, विधायक एवं मंत्री बनी। वह राज्यपाल भी बनी। मां जब विधायक थी तब उन्हें अच्छे कार्य के लिए नीलकंठ पुरस्कार मिला था। मंत्री रहते समय भी उन्होंने कई अच्छे कार्य किए। मेरी मां को जो भी दायित्व दिया गया है, वह उसे सच्चाई एवं ईमानदारी से पूरा किया है। यदि उन्हें राष्ट्रपति बनाया जाता है, तो वह इस पद पर भी सच्चाई के साथ काम करेंगी। राष्ट्रपति पद की गरिमा रखेंगी।