जानिए, योग दिवस पर पीएम के साथ योगा करने वाले ट्रांसजेंडर ने मोदी को लेकर कही थी ये खास बात...

 | 

न्यूज टुडे नेटवर्क। आज मैं बहुत खुश हूं। पीएम ने हमें नया जीवन जो दिया है। इनकी वजह से हमें योग के साथ समाज में जीने का अधिकार भी मिला है। कानूनी तौर पर हमें सालों पहले मान्यता मिल गई लेकिन समाज में अधिकारों के लिए हमारी लड़ाई आज भी जारी है। ये कहना है कर्नाटक के मैसूरू निवासी ट्रांसजेंडर अतश्री का।

krishna hospital

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर मंगलवार को पहली बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ ट्रांसजेंडरों ने भी योगासन किया। इस दौरान अतश्री ने कहा, तीन सप्ताह पहले हमें पीएम का न्यौता मिला था। मुझे पहले यकीन ही नहीं हो रहा था कि इस तरह के सार्वजनिक कार्यक्रम में उन्हें भी सम्मान दिया जा रहा है। मैं बहुत खुश हुई। मेरे साथ बाकी ने भी न्यौता स्वीकार किया और एक सप्ताह तक हमने योग का प्रशिक्षण लिया।

अपनी नम आंखों को पोंछते हुए अतश्री बोलीं, देश के करोड़ों लोगों के लिए प्रधानमंत्री आदर्श हैं। मुझे उम्मीद है जिस सम्मान के साथ हम पीएम के साथ बैठे हैं वह सम्मान समाज में भी उन्हें मिलेगा। इसी बीच ट्रांसजेंडर मधु ने बताया कि मैसूरू में ट्रांसजेंडर समुदाय की कुल आबादी करीब तीन से चार हजार है।

chaitanya

यह सम्मान हम कभी नहीं भूल पाएंगे

पीएम के कार्यक्रम में हिस्सा लेने के बाद ट्रांसजेंडर मधु ने अपने मोहल्ले में हर सुबह योग प्रशिक्षण देने का फैसला लिया है। मधु पेशे से मैसूरू सिल्क का व्यापार करती हैं। उन्होंने कहा, देश के प्रधानमंत्री ने हमारी भावनाओं को समझा। यह सम्मान हम कभी नहीं भूल पाएंगे।

मोदी मेरे आदर्श, मैं उन जैसा बनना चाहता हूं

योग कार्यक्रम के दौरान मैसूरू से करीब 150 दृष्टिहीन और मूक-बधिर बच्चों ने सहभागिता की। इस दौरान एक 11वीं कक्षा के छात्र रामा ने कहा, सर मैं अपनी आंखों से देख नहीं सकता लेकिन मैं सुन जरूर सकता हैं। मैं प्रधानमंत्री के हर कार्यक्रम को रेडियो और मोबाइल फोन पर सुनता हूं। मेरे लिए पीएम मोदी आदर्श हैं। भले ही मेरे जीवन में रोशनी नहीं है लेकिन मैं फिर भी नरेंद्र मोदी जैसा बनना चाहता हूं।

योग कीदृष्टिसे पूरी दुनिया को देख रही हूं

दृष्टिबाधित 10वीं की छात्रा विरेश ने कहा, सर मैं जन्म से ही दृष्टिहीन हूं। मैंने इस दुनिया को नहीं देखा है लेकिन बाकी चीजों की तरह मैं योग को महसूस कर सकती हूं इसके एक-एक योगासन को मैंने मन से सीखा है और अब मैं रोजाना योग की दृष्टि से पूरी दुनिया देख रही हूं। वहीं छात्रा मानू कुमार ने कहा, वे अपने स्कूल रंगाराव मेमोरियल में रोजाना योग करती हैं। योग से शांति मिलती है।